संसदीय स्थायी समिति का सामना करने के लिए Amazon, Google, Microsoft

25
संसदीय स्थायी समिति का सामना करने के लिए Amazon, Google, Microsoft
Advertisement

 

प्रतिनिधित्व के लिए Amazon, Apple, Facebook और Google के लोगो का उपयोग किया जाता है। (छवि: रॉयटर्स)

भारत और विश्व स्तर की सभी प्रमुख टेक फर्मों से देश में उनकी प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं पर सवाल उठाए जाएंगे और उनके व्यवसाय के लिए कारण पूछे जाएंगे।

बड़ी टेक फर्म जैसे अमेज़न, गूगल, Netflix और अन्य को मंगलवार को संसदीय स्थायी समिति का सामना करना है। समिति ने इन कंपनियों को प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं पर सवाल उठाने के लिए तलब किया है। इन कंपनियों के अलावा फ्लिपकार्ट, ओला और ओयो जैसी स्थानीय कंपनियों को भी समन जारी किया गया है।

करनाल मीनाक्षी अस्पताल फायरिंग मामला: आरोपी कौशल चौधरी का तीन रिमांड आज खत्म, पूछताछ में आरोपी ने किए कई खुलासे

डिजिटल इकोसिस्टम पर बाजार में अपनी स्थिति का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया गया है और इस सम्मन से इन मुद्दों को उठाने की संभावना है, जिससे उन्हें इस तरह की प्रथाओं पर अंकुश लगाने और ग्राहकों को एक समग्र अनुभव प्रदान करने के लिए कहा जा सके।

https://www.youtube.com/watch?v=/QCCZdevS9h4

रिपोर्टों से पता चलता है कि पैनल, जिसकी अध्यक्षता भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा कर रहे हैं, मंगलवार को अपनी बैठक के दौरान इस मामले पर चर्चा करेगा, जिसने हाल के दिनों में बहुत ध्यान आकर्षित किया है। टेक फर्मों ने इस तरह की प्रथाओं के प्रभाव को कम किया है और देश में कंपनियों द्वारा प्रदान किए गए विकास और विकास के बारे में बात की है।

यह पैनल पहले ही प्रतिस्पर्धा आयोग के प्रतिनिधियों से बात कर चुका है भारत (सीसीआई) और साथ ही इन मामलों में शामिल भारतीय तकनीकी फर्मों के अधिकारी। संसदीय पैनल द्वारा बिग टेक फर्मों के प्रतिनिधियों को तलब करना इस मामले पर अपनी पहले की चर्चा के अनुरूप है।

यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब डिजिटल और तकनीकी क्षेत्र के बड़े खिलाड़ियों पर प्रतिस्पर्धा-विरोधी तरीकों और अनुचित व्यावसायिक प्रथाओं में शामिल होने का आरोप लगाया गया है।

पानीपत में करंट लगने से युवक की मौत: मकान मालिक पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज; आरोप-खतरे वाली जगह करवाया काम

.

.

Advertisement