रक्तदान करके किसी की अनमोल जिंदगी बचाई जा सकती है: सत्यवान मान

74
Advertisement

 

धर्मपत्नी की याद में लगाया तीसरा विशाल रक्तदान शिविर

 

एस• के• मित्तल   

सफीदों, नगर के ज्ञानी राम अस्पताल में शुक्रवार को विशाल स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। बता दें कि यह रक्तदान शिविर समाजसेवी हरपाल रंगा ने अपनी स्वर्गीय धर्मपत्नी सुषमा देवी की याद में लगवाया था। शिविर में बतौर मुख्यातिथि एसडीएम सत्यवान सिंह मान ने शिरकत की।

GST स्कैम गैंग का पर्दाफ़ाश: चंडीगढ़ पुलिस ने पांच आरोपियों को दबोचा; सरकार को लगा रहे थे करोड़ों का चूना

वहीं विशिष्टातिथि पालिका चेयरपर्सन प्रतिनिधि संजय अधलखा, एसएचओ सिटी सुरेश कुमार, आरपीआई राष्ट्रीय प्रवक्ता सुनील गहलावत व अस्पताल के संचालक डा. केसी भट्टी रहे। आयोजक हरपाल रंगा ने आए हुए अतिथियों का अभिनंदन किया। डा. केसी भट्टी के नेतृत्व में डाक्टरों की टीम ने 171 यूनिट रक्त एकत्रित की। इस कैंप में नगर पार्षद नवीन भाटिया ने 30वीं बार रक्तदान किया। अतिथियों ने बैज लगाकर व प्रशंसा पत्र देकर रक्तदानियों का हौसला बढ़ाया।

रोहतक में ट्रैक्टर से कुचलकर युवक की हत्या: दूसरा भाई गंभीर रूप से घायल, परिजनों का आरोप- चुनावी रंजिश में चढ़ाया

अपने संबोधन में एसडीएम सत्यवान सिंह मान ने कहा कि प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति को 3 महीने में रक्तदान करना चाहिए। रक्तदान से बड़ा कोई पुण्य का कार्य नहीं है। रक्तदान करने से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता, बल्कि जरूरतमंद की जान बचाने में हमारा योगदान जरूर हो जाता है। लोगों में इस बात का भ्रम रहता है कि रक्तदान करने से उनके शरीर में कमजोरी आ जाएगी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। जो रक्तदान हम दान करते है वह कुछ ही घंटों में पूरा हो जाता है।

करनाल में कार्यकर्ताओं से मिले दीपेन्द्र हुड्‌डा: बोले- जजपा ने 5100 रुपए पेंशन का वादा नहीं निभाया; हिमाचल में कांग्रेस सरकार का दावा

भारत में रक्त समय पर ना मिल पाने के कारण काफी लोगों की मौत हो जाती है। अगर इनको सही समय पर रक्त प्राप्त हो जाए जो असंख्य लोगों की जान को बचाया जा सकता है और इस कार्य में रक्तदान शिविर अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। कार्यक्रम के समापन पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर कलाकार एंडी दहिया, सोनू सिंघानिया, पवन कलावती, धर्मपाल रामनगर, अजय महला, सरपंच अनिल कुमार, सुरेश गंगाना, गुरूचरण सिंह, नवीन बेगमपुर, राजेश पौडिया, डॉ गौरव व सुरेंद्र बसीनी विशेष रूप से मौजूद थे।

Advertisement