बेसहारा नंदियों को आश्रय देगी स्वामी गौरक्षानंद गौशाला

58
Advertisement

400 नंदियों के लिए 20 लाख की लागत से बनाया विशाल शैड
अतिथियों ने रीबन काटकर किया शैड का उद्घाटन

एस• के• मित्तल 
सफीदों,         सफीदों शहर स्थित स्वामी गौशाला नगर में बेसहारा घूम रहे नंदियों को आश्रय देगी। इसके लिए गौशाला ने 20 लाख रूपए की लागत से विशाल शैड का निर्माण किया है। इस शैड में 400 नंदियों को रखने की व्यवस्था गौशाला प्रबंधन ने की है। शुक्रवार को गौशाला प्रांगण में नवनिर्मित नंदी शैड का उद्घाटन कार्य संपन्न हुआ। इस समारोह में स्वामी वजीरानंद महाराज का सानिध्य प्राप्त हुआ।
वहीं इस कार्यक्रम में मुख्यातिथि जजपा जिलाध्यक्ष समाजसेवी कृष्ण राठी व विशिष्ट अतिथि नगरपालिका चेयरपर्सन प्रतिनिधि संजय बिट्टा रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता गौशाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष पालेराम राठी तथा संचालन सचिव शैलेंद्र दीवान ने किया। इस मौके पर अतिथियों ने रिबन काटकर नंदी शैड का विधिवत उद्घाटन किया। उद्घाटन से पूर्व विशाल हवन का आयोजन किया गया जिसमें गौभक्तों ने अपनी-अपनी आहुति डालकर समाज की सुख शांति की कामना की। अपने संबोधन में अतिथियों ने कहा कि नंदियों को संरक्षण देने का गौशाला प्रबंधन ने सराहनीय कार्य किया है।
इस पुण्य के कार्य से जहां इस भयकंर जाड़े में बेसहारा घूम रहे नंदियों को आश्रय मिलेगा वहीं नगर के लोगों को इनके आतंक से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने कहा कि गौसेवा से बड़ा कोई पुण्य का कार्य नहीं है। गौवंश की सेवा करने से मनुष्य के सभी कार्य सिद्ध होते हैं तथा जीवन में सुख-समृद्धि आती है। हर किसी को गौवंश सेवा में अपना योगदान देना चाहिए। गौशाला प्रबंधन समिति के सचिव शैलेंद्र दीवान ने बताया कि नगर में बेसहारा घूम रहे नंदियों को आश्रय देने के लिए इस विशाल शैड का निर्माण किया गया है। इस शैड में 400 गौवंश को आश्रय देने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि प्रशासन व पालिका नगर भर में बेसहारा घूम रहे नंदियों को पकड़कर इस शैड में भेजें।
उससे आगे की जिम्मेदारी गौशाला प्रबंधन की रहेगी। गौशाला द्वारा नंदियों को भरपूर मात्रा में चारा, रहने-सहने व पानी की भरपूर व्यवस्था की गई है। इस मौके पर गौशाला अध्यक्ष पालेराम राठी, सचिव शैलेंद्र दीवान, नंदीशाला के प्रधान योगी दीपक चौहान, पालिका उपाध्यक्ष अखिल गुप्ता, श्री गौशाला सफीदों के प्रधान शिवचरण कंसल, समाजसेवी रामेश्वर दास गुप्ता, ईश्वर शर्मा, अरविंद शर्मा, परसराम शास्त्री, ओमप्रकाश सिंगला, रोहतास भारद्वाज, जितेंद्र गर्ग, कैलाश गुप्ता व रणधीर घनघस विशेष रूप से मौजूद थे।
Advertisement