चंडीगढ़ के कई कॉलेजों में आज पढ़ाई ठप: टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ प्रशासन के खिलाफ हड़ताल पर

15
Quiz banner
Advertisement

आज चंडीगढ़ में सरकारी सहायता प्राप्त प्राइवेट कॉलेजों का टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ की आज हड़ताल है। टीचिंग और नॉन-टीचिंग यूनियंस की ज्वाइंट एक्शन कमेटियां चंडीगढ़ प्रशासन के खिलाफ विरोध जता रही हैं। यूनियंस का कहना है कि प्रशासन ने टीचर्स के लिए सेंट्रल सर्विस रुल्स लागू नहीं किए और नॉन-टीचिंग स्टाफ का 6वां पे कमीशन भी लागू नहीं किया।

रोहतक में किसानों का शक्ति प्रदर्शन: ट्रैक्टर लेकर शहर में घुसे किसान, जाम हुआ ट्रैफिक, पुलिस के छूटे पसीने, ट्रैक्टर मार्च निकाला

DAV कॉलेज टीचर्स यूनियन के प्रेसिडेंट सुमित गोखलेनी ने कहा कि प्रशासन ने पिछले महीने पंजाब सरकार की 7वीं पेश कमीशन नोटिफिकेशन को अडॉप्ट किया था। हालांकि मार्च, 2022 में केंद्रीय गृह मंत्री की घोषणा के बावजूद सेंट्रल सर्विस रुल्स उन पर लागू नहीं किए।

चंडीगढ़ में टीचर्स लगातार अपनी मांगों को उठा रहे हैं।(फाइल)

चंडीगढ़ में टीचर्स लगातार अपनी मांगों को उठा रहे हैं।(फाइल)

सर्विस बेनिफिट्स के प्रति अंजान
टीचर्स ने कहा है कि सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेजों में टीचर्स की सर्विस कंडीशन की स्थिति स्पष्ट नहीं है। वहीं टीचर्स उन्हें सेंट्रल सर्विस रुल्स के तहत प्राप्त होने वाले लाभ के प्रति भी अंजान हैं। इनमें चाइल्ड केयर लीव, प्रोबेशन पीरियड, पास्ट सर्विस बेनिफिट्‌स आदि शामिल हैं।

अल्पाइन स्कीइंग-शिफरीन ने महिलाओं का रिकॉर्ड बनाने के लिए 83वीं विश्व कप जीत का दावा किया

MHA की नोटिफिकेशन को बनाया आधार
वहीं दूसरी ओर नॉन-टीचिंग यूनियन, चंडीगढ़ के सेक्रेटरी दिवांकर तिवारी ने कहा कि वर्ष 2011 की MHA नोटिफिकेशन के तहत गवर्नमेंट और सहायता प्राप्त कॉलेजों के नॉन-टीचिंग स्टाफ में काफी समानता है। इसके बावजूद नॉन-टीचिंग स्टाफ 6वें पे कमीशन के लाभ का इंतजार कर रहा है।

 

खबरें और भी हैं…

.
सऊदी अरब के निवेश कोष ने फॉर्मूला वन को खरीदने की कोशिश की, इसकी कीमत 20 अरब डॉलर आंकी: रिपोर्ट

.

Advertisement