वुमेन इरा फाऊंडेशन व जेसीज ने लगाया रक्तदान शिविर

28
Advertisement

स्वतंत्रता दिवस पर 123 लोगों ने किया स्वैच्छिक रक्तदान

एस• के• मित्तल   
सफीदों,             आजादी की वर्षगांठ पर वुमेन इरा फाऊंडेशन, जेसीज व नीफा के संयुक्त तत्वावधान में नगर के जेसीज भवन में विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस मौके पर बतौर मुख्यातिथि पालिका चेयरपर्सन अनीता अधलखा व भाजपा पूर्व जिलाध्यक्ष अमरपाल राणा ने शिरकत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता वुमेन इरा फाऊंडेशन की अध्यक्षा गीतांजली कंसल ने की। शिविर का शुभारंभ ध्वजारोहण करके किया गया। अतिथियों ने रक्तदाताओं को बैज लगाकर उनका हौसला बढ़ाया तथा प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया गया।
मैट्रो ब्ल्ड बैंक जींद से आई टीम ने स्वैच्छिक रक्तदाताओं से 123 यूनिट रक्त संग्रहित किया। अपने संबोधन में अतिथियों ने उपस्थित लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए कहा कि अथक संघर्षों एवं अनेकों बलिदान के उपरांत हमें 75 साल पहले अंग्रेजो की गुलामी से देश को आजादी तो मिली थी। सरहद पर तैनात सिपाही के साथ-साथ हर वह व्यक्ति देश का जवान है, जो समाज को बेहतर बनाने में अपना योगदान दे रहा है। समाज में व्याप्त हर बुराई से लडऩा भी सच्ची देशभक्ति है। देश की सबसे बड़ी ताकत हमारी एकता व भाईचारा है। उन्होंने कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है। इंसान द्वारा किया गया रक्तदान किसी जरूरतमंद की जान बचा सकता है।
इस संसार में वैज्ञानिकों ने हर चीज का तोड निकाल लिया है लेकिन रक्त का कोई विकल्प आजतक तैयार नहीं हो पाया है। रक्त की पूर्ति मानव के द्वारा दान दिए गए रक्त से हो सकती है। इसलिए हम सबको रक्तदान के लिए आगे आना चाहिए। वुमेन इरा फाऊंडेशन की अध्यक्षा गीतांजली कंसल ने बताया कि नीफा ने सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से 75 दिन में 75 ब्लड डोनेशन कैंप लगाकर 7500 यूनिट रक्त एकत्रित करने का लक्ष्य रखा है। उसी लक्ष्य की पूर्ति में यह रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया है।
इस शिविर में पुरूषों के साथ-साथ महिलाओं ने भी बढ़-चढ़कर रक्तदान किया है। कार्यक्रम के समापन पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर प्रमुख रूप से पालिका चेयरपर्सन अनीता अधलखा, जेसीज के अध्यक्ष राजेश रलहन, डा. लवकेश अग्रवाल, गीतांजली कंसल, सरोज गोयल, कविता शर्मा, जेसी संजीव शर्मा, जेसी विनोद कंसल, मोनिका शर्मा, हेमलता क्वात्रा, शिवचरण कंसल, जेसी सतीश मंगला, जेसी अरूण कंसल, श्याम स्वामी विशेष रूप से मौजूद थे।
Advertisement