पशुपालन विभाग ने इससे पहले 1800 के लगभग पशुओं का टीकाकरण कर दिया है-ड़ा.नरेन्द्र सिंह

78
Advertisement

BY NIRMAL SANDHU

इन्द्री । उपमंडल में लम्पी  बीमारी से अब तक 900 से अधिक पशु ग्रसित हो चुके हैं जिसको लेकर पशुपालन विभाग पूरी तरह से सजग हो गया है। गौरतलब है कि पशुपालन विभाग ने इससे पहले 1800 के लगभग पशुओं का टीकाकरण कर दिया है जिसमें विभिन्न गौशाला व नंदीशाला मौजूद हैं।   वहीं पर सभी गौशाला नंदी शाला में इस समय फागिंग भी कराई जा रही है ताकि यह वायरस और अधिक ना फैले। यह जानकारी पशुपालन विभाग उपमंडल के अधिकारी डॉ  नरेंद्र सिंह ने दी।

व्हाट्सएप को हटाए गए संदेशों को पुनः प्राप्त करने की क्षमता मिल रही है, समूह व्यवस्थापक सभी के लिए संदेशों को हटाने में सक्षम हो सकते हैं

उन्होंने कहा कि हमारे पास वैक्सीन खत्म हो गई थी जोकि आज शाम तक या कल सुबह हमें उपलब्ध हो जाएगी फिर इसके बाद जितने भी पशु और रह गए हैं उन सभी का टीकाकरण कर दिया जाएगा।  उन्होंने सभी पशुपालक से अपील की कि जो पशु इस बीमारी से ग्रसित हैं उनको बाकि पशुओं से अलग कर दें तथा फिटकरी और नीम के घोल से सभी पशुओं पर सप्रे करें अपने पशुओं को मक्खी मच्छर से बचाने के लिए पुख्ता इंतजाम करे। उन्होंने बताया कि यह वायरस अधिकतर मक्खी मच्छरों से ही फैल  रहा है। ड़ा. नरेन्द्र ने बताया कि इस वायरस से घबराने की जरूरत नहीं है। धीरे-धीरे इसका प्रभाव कम हो रहा है तथा स्वस्थ पशुओं को टीकाकरण व्यापक स्तर पर किया जा रहा है ताकि यह बीमारी आगे ना बढ पाए।

 

ITI काउंसलिंग आज 9 बजे से शुरू: 26 सितंबर तक चलेगी एडमिशन प्रक्रिया, 3952 सीटों पर आए 10165 आवेदन, मोबाईल पर मिलेगा मैसेज

जो दुधारू पशु हैं उन पशुओं में यदि यह  बीमारी आ गई है तो उसका दूध पर किसी प्रकार का कोई असर नहीं पड़ेगा सिर्फ उस दूध को उबालकर ही पिए।  उन्होंने पशुपालकों से अपील की कि यदि उनके पशुओं में यह बीमारी आ रही है तो इसकी सूचना तुरंत पशुपालन विभाग के नजदीकी डॉक्टर को अवश्य दें ताकि उनके पशुओं का इलाज सही ढंग से हो सके। उन्होंने कहा कि  समय-समय पर पशु पालन विभाग की ओर से अनेक प्रकार के टीकाकरण किए जाते हैं ताकि पशुओं में किसी प्रकार की  बीमारी ना आए। इस बारे में पशुपालन विभाग पूरी तरह से अलर्ट है।

 

बीरेंद्र सिंह ने आदमपुर को लेकर चौंकाया: पूर्व केंद्रीय मंत्री बोले- जरूरी नहीं उपचुनाव में कुलदीप को ही BJP टिकट दे; और भी लाइन में

Advertisement