झज्जर में ग्रामीणों की समस्याओं पर चर्चा: एसईसीआई ने कबलाना में चलाया जनसंपर्क अभियान; मांगा खराब फसलों का मुआवजा

32
Quiz banner
Advertisement

हरियाणा के झज्जर में ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन की एक टीम ने जनसंपर्क अभियान के तहत कबलाना गांव का दौरा किया। कई स्थानों पर नुक्कड़ और ग्रुप मीटिंग करके किसानों व ग्रामीण, गरीबों से ज्वलंत समस्याओं पर चर्चा की।

दशमेश मार्केट में इंटरलॉकिंग टाइल्स लगाने का मामला: नगर निगम अधिकारी खुद फंसे, पहले टेंडर निकाला, फिर कोर्ट का स्टे बताया

इस दौरान गांववासियों ने बताया कि 6-6 महीने के बिजली के बिल आ रहे हैं। बर्बाद फसलों का मुआवजा नहीं मिला, बच्चों की पढ़ाई बहुत महंगी है, उन्हें पढ़ाई के बाद कोई रोजगार नहीं मिलता, अनेक बुजुर्गों की वृद्धावस्था पेंशन काट ली गई है तथा महंगाई ने हमारा जीना हराम कर दिया है।

मीटिंगों में लगातार हुई बारिश से बर्बाद बाजरा आदि फसलों का मुआवजा पचास हजार रुपए प्रति एकड़ देने, खेतों में खड़े पानी की निकासी करने, बुढ़ापा पेंशन 5000 प्रति मास देने, बिजली बिल (संशोधन) 2022 वापस लेने, ग्रामीण गरीबों को कर्ज मुक्त करने तथा महंगाई पर रोक लगाने की मांग की गई।

संगठन के प्रदेश सचिव जयकरण मांडौठी ने बताया कि किसानों तथा भूमिहीन ग्रामीणों ने 4 दिसंबर 2022 को झज्जर में होने जा रहे प्रदेश स्तरीय किसान मजदूर सम्मेलन में बढ़-चढ़कर भाग लेने का आश्वासन दिया। बैठक में सतवीर सिंह, हवा सिंह, राजवीर सिंह, सतनारायण, जोगेंद्र सिंह, श्रीभगवान, नरसिंह, इंद्र सिंह, मगन सिंह, छत्र सिंह, वजीर सिंह, रामकिशन, प्रताप सिंह, महेश कुमार, कुलदीप सिंह, चांद सिंह तथा अन्य ग्रामीणों ने भाग लिया।

 

खबरें और भी हैं…

.
भारत में ब्रॉडबैंड और मोबाइल की गति सितंबर में बढ़ी, यहां तक ​​कि वैश्विक रैंकिंग में गिरावट के बावजूद

.

Advertisement