गरीब-दलितों की आवाज थे पं. दीनदयाल उपाध्याय: विजयपाल सिंह

27
Advertisement

कार्यकर्ताओं ने पं. दीनदयाल उपाध्याय को किया नमन

एस• के• मित्तल 
सफीदों,          नगर के आहलुवालिया भवन में रविवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती मनाई गई। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता भाजपा प्रदेश प्रवक्ता एडवोकेट विजयपाल सिंह ने की। कार्यकत्र्ताओं ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रतीमा के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित करके एवं पुष्पांजलि अर्पित करके उन्हे नमन किया गया। अपने संबोधन में एडवोकेट विजयपाल सिंह ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वदेशी के भी बहुत बड़े समर्थक थे।
उनका कहना था कि भारत के लिए एक स्वदेशी आर्थिक मॉडल विकसित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है जिसमें व्यक्ति केंद्र में हो। पं. दीनदयाल उपाध्याय भारत में गरीब-दलितों की आवाज माने जाते थे। उनका सपना था कि देश की हर जन कल्याणकारी योजना का लक्ष्य समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना है। समाज के अंतिम पायदान पर खड़े लोगों के लिए योजनाएं बननी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश की नरेंद्र मोदी सरकार उनके बताए गए नक्से-कदम पर चल रही है। देश के लिए दिए गए उनके योगदान के उपलक्ष्य में उनकी जयंती को अंत्योदय दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचारक और भारतीय जनसंघ के सह-संस्थापक रहे हैं। उन्होंने देश की आर्थिक व्यवस्था के लिए भारतीय अर्थ नीति का अवमूल्यन और भारतीय अर्थ नीति विकास की एक दिशा नामक पुस्तक भी लिखी थी।
कार्यक्रम के दौरान एडवोकेट विजयपाल सिंह एवं कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात कार्यक्रम सुना। इसके अलावा कार्यकर्ताओं को टूंटियां भी वितरित की गई ताकि वे नगर में खाली चल रहे पानी के नलों को बंद कर सकें। इस मौके पर कपिल शर्मा, रमन अदलखा, पंकज धीमान, सरोज भाटिया, राजकुमारी, पालेराम यादव, गीता बिटानी, एडवोकेट अभिषेक गर्ग, कैलाश शर्मा, रामभरोसे दास, रवि थनई, प्रवीन सैनी व सोनू रजाना भी मौजूद थे
Advertisement