प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग अन्नयन योजना का लाभार्थी उठाए लाभ – उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार

एस• के• मित्तल
जींद,   उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत असंगठित क्षेत्र व इनफोरमल रूप में कार्य कर रहे खाद्य प्रसंस्करण सुक्ष्म इकाइयों को बढ़ावा देने हेतु, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (पीएमएफएमई) का आरम्भ किया है। इसके तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 से 2024-25 के कार्यकाल के दौरान 2 लाख सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यमों को फार्मल सेक्टर में लाने के लिए दस हजार करोड़ रुपए का लाभ प्रदान करने का प्रावधान किया गया है। उक्त योजना के अंतर्गत अधिकतम दस लाख रुपए तक की अनुदान सहायता से परियोजना लागत की 35 प्रतिशत क्रेडिट लिंक्ड अनुदान सहायता का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि उक्त योजना में खाद्य प्रसंस्करण में नये सूक्ष्म उद्यम स्थापित करने एवं बढ़ावा देने हेतु जीन्द जिले में वन-डिस्ट्रीक्ट-वन-उत्पाद के तहत शहद उत्पाद का चयन किया गया है। इसके अतिरिक्त इस योजना मे असंगठित क्षेत्र में खाद्य प्रसंस्करण में काम कर रहे विद्यमान (मौजूदा) सूक्ष्म उद्यम भी लाभ लेने के पात्र होंगे जैसे:- आम, आलू, लीची, टमाटर, साबूदाना, किन्नू, भुजिया, पेठा, पापड़, अचार, मुरब्बाए मोटे अनाज आधारित उत्पाद, मत्स्य की, पॉल्ट्री उत्पाद तथा पशुचारा इत्यादि।
योजना का लाभ लेने के लिए पात्र मापदण्ड
उपायुक्त ने बताया कि आवेदक 18 वर्ष से अधिक का हो और कम से कम 8वीं कक्षा की शैक्षणिक योग्यता रखता हो। वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए एक परिवार से केवल एक व्यक्ति पात्र होगा। उक्त स्कीम में ऋण प्राप्त करने हेतू www.mofpi.nic.in पर जाकर ऑनलाईन माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।
यह भी देखें:-

सफीदों बस स्टैंड पर प्राइवेट बस वालों की दादागिरी… रोडवेज के ड्राइवर को घसीटा… देखिए लाइव रिपोर्ट…

सफीदों बस स्टैंड पर प्राइवेट बस वालों की दादागिरी… रोडवेज के ड्राइवर को घसीटा… देखिए लाइव रिपोर्ट

जिला एम.एस.एम.ई. केन्द्र, जीन्द मे रखे जाएंगे रिसोर्स पर्सनस

उपायुक्त ने बताया कि जिला स्तर इस स्कीम का संचालन एम.एस.एम.ई. केन्द्र, जीन्द द्वारा किया जा रहा है तथा इस योजना के अंतर्गत आवेदकों को सभी प्रकार की सहायता डिस्ट्रीक्ट रिसोर्स पर्सन (डीआरपी) द्वारा प्रदान की जाती है जिसके के लिए डिस्ट्रीक्ट रिसोर्स पर्सन को प्रति केस बीस हजार रूपए की राशि दिए जाने का प्रावधान है इस जिला में रिसोर्स पर्सनस की नियुक्ति भी की जानी है जिसके लिए आवेदक स्नातक हो तथा परियोजना रिपोर्ट की जानकारी रखता हो। इस स्कीम के तहत लाभ प्राप्त करने एवं रिसोर्स पर्सन नियुक्ति हेतु इच्छुक आवेदक जिला एम.एस.एम.ई. केन्द्र, जीन्द मे योग्यता प्रमाण पत्रों सहित आवेदन कर सकता है। डीआरपी आवेदन हेतु अधिक जानकारी के लिए किसी भी कार्यालय दिवस पर आकर जिला एम.एस.एम.ई. केन्द्र, जीन्द मे अथवा 9416540144 पर संपर्क कर सकते हैं।
YouTube पर यह भी देखें:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!