पिता का बकाया बिल बेटे के बिल में जोडऩे की सीएम विंडों में की शिकायत, मामला रफादफा करने के लिए कर्मचारियों पर लगाए पैसे मांगने के आरोप

84
Advertisement

नियमानुसार पिता की डिफॉल्टिंग अमाउंट बेटे से भरवाई गई है: एसडीओ

एस• के• मित्तल
सफीदों,       उपमंडल के गांव बहादुरपुर के बिजली उपभोक्ता कृष्ण कुमार व उसके भाई रोशनलाल राणा ने पिता के बकाया बिजली के बिल की बकाया राशी उसके बिल जोडऩे की शिकायत सीएम विंडों में की है। सीएम विंडों में की शिकायर्ता ने कहा है कि उसके यहां बिजली मीटर नंबर जे22एसबी110373 लगा हुआ है। मैने अपना बिल समय पर भरता आ रहा हुं। उसने दिसंबर माह में 484 रूपए का दिल अदा किया था। उसके बाद जनवरी 2022 में मेरे पास 159721 रूपए का आया। यह बिल देखकर मैं हैरान रह गया। जब उसने विभाग में संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि मेरे पिता का बिल बकाया था जोकि उसके खाते में ड़ाल दिया गया है। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उसके पिता का बिल 80000 रूपए था जोकि गलती से डबल चढ़ गया है। उसके बाद विभाग ने मेरे पिता के बिल की बकाया राशी का बिल ठीक करके 85402 रूपए कर दिया गया। जब मेरे पिता का मीटर बिजली विभाग द्वारा उनके जीते जी बंद किया गया तो उनका बकाया बिल 33000 रूपए था। मेरे पिता के देहांत को करीब 10 वर्ष हो चुके है। मेरे पिता की जायदाद मेरी मां व भाई के पास है। मैंने उनसे अपना कोई हिस्सा नहीं लिया हुआ है। मेरे पिता के देहांत के पश्चात मेरा भाई अपनी सारी जायदाद बेचकर चण्डीगढ़ चला गया। कृष्ण कुमार ने कहा कि मेरा मीटर मेरे नाम से अलग लगा हुआ है। कृष्ण ने कहा कि इसी वर्ष 23 मार्च को लाईनमैन मोहन लाल व जेई दलेर सिंह ने मुझे डिफाल्टर घोषित करते हुए मेरे घर से बिजली का मीटर उखाड़ लिया। वही पै्रस कांफ्रेस करके उपभोक्ता कृष्ण कुमार के बड़े भाई भाजपा नेता रोशनलाल राणा ने कहा कि बिजली विभाग मेरे से रंजिश रखते हुए मेरे भाई को लगातार प्रताडि़त कर रही है। पिछले महीने में उसके घर पर तीन बार बिजली विभाग की रेड हो चुुकी है लेकिन उन रेडों में जब कुछ नहीं मिला तब उन्होंने मेरे घर पर रखी मोटर का ओवरलोड दिखाकर 13000 रूपए का फाइन मेरे भाई के बिल में जोड़ दिया गया। जब मैने विभाग के कर्मचारियों से बात की तो उन्होंने मुझसे मामला रफादफा करने के लिए पैसों की मांग की। जिसकी एक वाईस रिकॉर्डिंग उसके पास है। रोशनलाल का कहना है कि मेरे पिता की मृत्यु हुए काफी वर्ष हो चुके हैं। मेरा भाई ने विभाग की एनओसी लेकर नया कनेक्शन ले चुका है तथा पंचायत व नंबरदार का चुनाव लड़ चुका है लेकिन एनओसी होने के बावजूद मेरे भाई के पास पिता के बकाया बिल का हवाला देकर 159000 की डिमांड की गई और 22 मार्च को मेरे भाई का कनेक्शन पीडीसीओ दिखाकर उखाड़ लिया गया। रोशनलाल राणा ने कहा कि वे इस मामले को आगामी 3 अप्रैल को सीएम मनोहर लाल के सामने सफीदों में आयोजित होने वाली रैली में उठाएंगे।
यह भी देखें:-

राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन रोडवेज कर्मचारयों ने दिया समर्थन… सफीदों बस स्टैंड से देखिए लाइव…

राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन रोडवेज कर्मचारयों ने दिया समर्थन… सफीदों बस स्टैंड से देखिए लाइव

बाक्स:-

क्या कहते हैं निगम के एसडीओ

इस मामले में निगम के एसडीओ का कहना है कि शिकायतकर्ता के पिता की तरफ डिफॉल्टिंग अमाउंट बकाया थी। उपभोक्ता ने इस बात को विभाग से छिपाकर कनेक्शन लगवा लिया। बाद में विभाग को पता चला तो वह पैसा नियमानुसार उसके बेटे के खाते में ट्रांसफर किया गया। उपभोक्ता को ब्याज माफी का लाभ देकर नियमानुसार उससे 58000 रूपए की राशी जमा करवाकर उसका कनेक्शन जोड़ दिया गया है। यह कनेक्शन जिस मकान में है उसी में पहले उसके पिता का कनेक्शन था। वही उन्होंने विभाग के कर्मचारियों द्वारा पैसे मांगने के आरोपों पर कहा कि अगर उपभोक्ता उनको सबूतों के साथ लिखित में शिकायत देगा तो निश्चित तौर पर कार्रवाई की जाएगी।
YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement