गौसेवा तथा गौसंरक्षण मनुष्य के लिए सबसे बड़ा परमार्थ का कार्य – उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला

103
Advertisement
एस• के• मित्तल
उचाना, उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला ने कहा है कि गौसेवा तथा गौसंरक्षण मनुष्य के लिए सबसे बड़ा परमार्थ का कार्य है। गौवंश की समर्पण भाव से सेवा करने से व्यक्ति को आत्मिक एवं अध्यात्मिक संतुष्टि मिलती है और भौतिकवाद के इस युग में इंसान के मौक्ष का रास्ता भी मिलता है। ये बात उपमुख्यमंत्री ने श्री गउशाला बाबा फुल्लूसाध उचाना खुर्द में आयोजित सालाना महोत्सव को सम्बोधित करते हुए कहीं। गउशाला में गौसेवा समिति उचाना खुर्द द्वारा श्री महात्मा फुल्लूसाध के जन्मोउत्सव पर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला ने गउशाला में गौवंश के रख- रखाव एवं उनके रहने की सुविधा के लिए करीब 37 लाख रूपए की लागत से नवनिर्मित दो शेड गउशाला को समर्पित किए। इनमें एक छप्पर का निर्माण एमपी लैड कोटे से प्रदत अनुदान राशि 12 लाख 70 हजार रूपए की लागत से किया गया है जबकि दूसरा छप्पर 24 लाख रूपए की धनराशि से मनरेगा के तहत बनाया गया है। उपमुख्यमंत्री ने गउशाला के आगामी वित्त वर्ष में सोलर प्लांट लगवाने की भी घोषणा की ताकि बिजली आपूर्ति 24 घंटे सुचारू रूप से होती रहे और मई व जून जैसे गर्मी के महीनों में गौवंश को किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो। इसके अलावा गांव की गउशाला से जुड़ी हुई दो मुख्य गलियों को एचआरडीएफ के तहत बनवाने और गउशाला में योग प्रशिक्षण केन्द्र के नवीनीकरण करवाने के लिए भी कहा। श्री चैटाला ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि गौवंश स्वस्थ मानव जीवन के लिए अनेक प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से उपयोगी है। गउमुत्र व गउ के गोबर से गोबरगैस प्लांट का निर्माण उपरान्त ग्रामीण व आसपास के हजारों किसान इसका घरेलु उपयोग एवं खेती में जैविक खाद के तौर पर प्रयोग कर सकते है। उन्होंने कहा कि गउसेवा जहां पुण्य का कार्य है वहीं गउशाला से प्राप्त खाद व अन्य जैविक खादों का उपयोग कर इलाका के किसान उन्नत व उपयोगी खेती को भी बढ़ावा दे सकते है। श्री चैटाला ने गउशाला को अव्वल एवं उन्नत गउशाला के रूप में पूर्णतया विकसित करने के लिए एसडीएम उचाना की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने के लिए भी कहा ताकि कमेटी द्वारा प्रस्तावित प्रारूप के अनुसार भविष्य में गउशाला को और माॅडल तरीके से विकसित किया जा सके। उपमुख्यमंत्री ने गउसेवा समिति की मांग पर उचाना गउशाला में आगामी वित्त वर्ष में बाॅयोगैस प्लांट लगवाने की भी बात कहीं। उपमुख्यमंत्री ने अपने सम्बोन्धन में कहा कि योग प्राचीन भारतीय संस्कृति का अहम हिस्सा है और इसे अपनाकर प्रत्येक व्यक्ति विशेषकर भावी पीढ़ी स्वस्थ जीवन यापन कर सकती है। गौसेवा तथा योग दोनों प्रक्रियाएं एक दूसरे की पूरक है जो मानवता के उज्जवल एवं खुशहाल भविष्य का आधार है। लिहाजा प्रत्येक व्यक्ति को गौसेवा करने के साथ- साथ योग के प्रति भी रूचि रखनी चाहिए। कार्यक्रम की शुरूआत गौसेवा समिति सदस्यों के साथ उपमुख्यमंत्री द्वारा हवन यज्ञ में आहूति डालने के साथ हुई। इस मौके पर जुलाना के विधायक अमरजीत ढाण्डा, पूर्व विधायक पिरथी नम्बरदार, उचाना के एसडीएम राजेश कोथ, नरवाना के एएसपी कुलदीप सिंह, स्वामी बजीरानंद सरस्वती, भलेराम श्योकन्द, अजमेर वकील, राजेश नम्बरदार, रमेश नम्बरदार, खुजान सिंह सरपंच, सरपंच भतेरी देवी, ईश्वर सिंह, जितेन्द्र पार्षद, अनिल सहित अन्य समिति सदस्य व गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।
Advertisement