कलाम बाल आश्रम में किया माइर्को लीगल सर्विस कैम्प का आयोजन

151
Advertisement
एस• के• मित्तल
जींद,    हरियाणा राज्य विधिक प्राधिकरण के निर्देशानुसार शुक्रवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आश्रम ने माइर्को लीगल सर्विस कैम्प का आयोजन किया गया। इस कैम्प में जिला बाल संरक्षण अधिकारी सुजाता, बाल कल्याण समिति, जिला प्रोग्रामर अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। इस अवसर पर बाल आश्रम में रह रहे बच्चों को उनके सम्बन्धित योजनाओं की जानकारी दी गई और उन्हें उनके अधिकारों एवं कर्तव्यों के बारे में अवगत करवाया गया। सीजेएम रेखा ने बताया कि इस कैम्प में बच्चों को पंजाब नैशनल बैंक, सच्वा खेड़ा की टी द्वारा स्कील डैवलपमैंट योजना के अर्न्तगतकई प्रकार के ऑर्ट एण्ड क्राप्ट सम्बन्धी कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें बच्चों को विभिन्न कालत्मक क्रितिया एवं सजावटी समान बनाने का प्रशिक्षण दिया। जिसमें बच्चों ने बड़ा उत्साह से भाग लिया। इस अवसर प्राधिकरण सचिव ने सभी प्रतिभागी बच्चों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किए। इसी प्रकार आज इस कैम्प में बच्चों के स्वास्थ्य की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग से डॉक्टर भी नियुक्त किाए गए। जिन्होंने मौके पर सभी बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की। इसी प्रकार विभिन्न विभागों ने सम्बन्धित योजनाओं के बारे में जानकारी दी। बच्चों के अच्छे भविष्य के लिए आश्रम में प्रदान की जा रही सुविधाओं का जायजा लिया। वर्णनीय है कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आश्रम का विभिन्न अवसरों पर दौरा किया जाता है और बच्चों को प्रदान की जा रही सुविधाओं का जायजा लिया जाता है और किसी भी प्रकार की खामी का मौके पर अधिकारियों को बुलाकर निपटान किया जाता है।
यह भी देखें:-

यूक्रेन से जींद की प्रीति जागड़ा ने सही सलामत घर लौटने पर बताई यूक्रेन की ज़मीनी हकीकत… सुनिए लाइव…

यूक्रेन से जींद की प्रीति जागड़ा ने सही सलामत घर लौटने पर बताई यूक्रेन की ज़मीनी हकीकत… सुनिए लाइव…

प्राधिकरण सचिव ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आश्रम में रह रहे बच्चों के सम्पूर्ण विकास, मानसिक और बौद्धिक के लिए सदैव तत्पर है और इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए समय- समय पर सम्बन्धित विभागों से समन्वय कर बच्चों के लिए इस प्रकार के आयोजन किए जाते है, जिससे बच्चे स्वयं को समाज की मुख्य धारा से जुड़ा हुआ महसूस करें और उनमें अपने परिवार से दूर होने की पीड़ा को हटाया जा सके। इस प्रकार के आयोजन बच्चों के मानसिक एवं बौद्धिक विकास में विशेष योगदान देते है और उनमें जीवन के प्रति सकारात्मक, उल्लास और उमंग बनी रहती है जोकि भविष्य में उन्हें जिम्मेवार नागरिक के रूप में समाज में अपना योगदान देने में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करती है।
YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement