करसिंधु गांव में मिले युवक के शव की हुई शिनाख्त

83
Advertisement

मृतक की पहचान सफीदों के जोगिंद्र सैन के रूप में हुई
पिछले 4 दिन से गायब था जोगिंद्र
हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सदर थाना के बाहर लगाया जाम
परिजनों ने शव का दाह संस्कार करने से किया मना

एस• के • मित्तल   
सफीदों,        उपमंडल के गांव करसिंधु में बंद पड़े एक मकान में मिले युवक के शव की बुधवार सुबह शिनाख्त हो गई है। मृतक युवक की पहचान सफीदों के हॉट रोड स्थित खादी आश्रम वाली गली के जोगिंद्र सैन (35) के रूप में हुई है। मृतक के परिजनों ने उसके कपड़ों, चप्पल, हाथ में बने टैटू व कलाई में बंधी राखी के आधार पर शव की शिनाख्त कर ली है। इस मामले में परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है।
परिजनों ने हत्यारों को पकडऩे की मांग को लेकर सदर थाना के बाहर सफीदों-जींद मार्ग को जाम लगा दिया। परिजनों का कहना था कि जब तब आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक वे शव का दाह संस्कार नहीं करेंगे। मिली जानकारी के अनुसार करसिंधु गांव में मंगलवार दोपहर को एक युवक का शव एक घर के बंद कमरे में मिला था। कमरे में से भयंकर बदबू आने के बाद लोगों ने कमरा खोलकर देखा तो पाया था कि वहां पर एक मृत युवक का शव पड़ा है। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी थी। सूचना पाकर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव का मुआयना किया तथा एफएसएल टीम को बुलाकर मौके के साक्ष्य एकत्रित किए थे।
पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे सफीदों के नागरिक अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया था। मंगलवार को ही मृतक जोगिंद्र के परिजनों ने सिटी थाना में उसकी गुमशुदगी की शिकायत देकर कहा था कि जोगिंद्र 14 अगस्त की रात से गायब है। उन्होंने अपने स्तर पर उसे काफी तलाश किया है लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लगा। जिस पर पुलिस ने जोगिंद्र की गुमशुदगी का मामला दर्ज कर लिया था। उसके बाद सिटी थाना पुलिस ने मंगलवार को ही जोगिंद्र के परिजनों को नागरिक अस्पताल सफीदों में रखे गए लावारिस अवस्था में मिले शव को दिखाया था लेकिन शव की खराब हालत व उसके फूले हुए होने के कारण उस वक्त परिजन पहचान नहीं कर पाए थे। बुधवार सुबह फिर से जोगिंद्र के परिजनों व उसके करीबियों को शव का गहनता से मुआयना करवाया गया।
जिसके उपरांत परिजनों व करीबियों ने उसके हाथ पर बने टैटू, कलाई पर बंधी राखी, कपड़ों व चप्पलों के आधार पर शव की शिनाख्त कर ली। शव की शिनाख्त होने के उपरांत परिवार व करीबी लोग नागरिक अस्पताल में पहुंच गए। वही सदर थाना प्रभारी राजेश कुमार व सिटी थाना प्रभारी सुरेश कुमार अस्पताल परिसर में पहुंचे तथा परिजनों से सारी जानकारी हासिल की। परिजनों का रो-रोकर के बुरा हाल था। मृतक जोगिंदर के करीबियों ने बताया कि 14 अगस्त की रात को करीब साढ़े 8 बजे सफीदों के करीबी गांव सिंहपुरा का सुमित नामक युवक उसे पुरानी अनाज मंडी की दुकान से अपने साथ शराब पिलाने के बहाने मोटरसाइकिल पर बैठाकर ले गया था। उन्होंने बताया कि मृतक जोगिंद्र शराब का सेवन करता था और शराब के लालच में वह उसके साथ चला गया।
वहां पर शराब पीकर उन दोनों की किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई होगी और आरोपी सुमित जोगिंद्र का कत्ल करके फरार हो गया। उन्होंने कहा कि इस घटना में कई और लोग भी शामिल हो सकते हैं। करीबियों ने बताया कि जोगेंद्र की किसी के साथ कोई रंजिश नहीं थी और वह एक  गरीब परिवार से संबंध रखने वाला युवक है तथा सैलून का कार्य करके अपने परिवार का पालन पोषण करता था। उसके दो छोटे-छोटे बच्चे एक लड़का और एक लड़की है तथा सारे परिवार के पालन पोषण का भार उसी के कंधे पर था। करसिंधु गावं के जिस घर में यह लाश मिली है वह आरोपी की मौसी का बताया जा रहा है। करीबियों ने बताया कि जोगिंद्र के पास फोन नहीं था और किसी अनजान नंबर से उसके पिता भवानी के पास एक मैसेज आया था कि क्षमा करें कि अभी वह बात नहीं कर सकता। मैं बिल्कुल  ठीक हूं तथा अभी बात करने की हालत में नहीं हूं। मैं जल्दी ही आ जाऊंगा।
वहीं पुलिस ने इस मामले में गांव करसिंधु के चौकीदार कर्मबीर सिहं के बयान के आधार पर अज्ञात के खिलाफ़ हत्या का मामला दर्ज कर लिया था। पुलिस को दिए बयान में चौकीदार कर्मवीर ने कहा कि करीब 2 बजे मुझे पता चला कि गांव की खेड़े वाली गली में पूर्व सरपंच चन्द्र सिंह के मकान के दरवाजे के नीचे से खुन निकल रहा है और बदबू आ रही है। मैने मकान पर जाकर देखा तो दरवाजे के निचे से खुन निकल रहा था और मैने झांकी के अंदर झांककर देखा तो एक आदमी खुन से लथपथ हालात मे निचे पर्श पर पङा दिखाई दिया। इस मकान के मालिक चंद्र सिंह की 10 वर्ष पहले हो चुकी है। अब चन्द्र सिहं का लङका बिन्द्र कभी-कभार ही गांव मे आता है। रविवार को भी मैने बिन्द्र के साथ एक दो लङकों को गांव मे देखा था। चौकीदार कर्मवीर ने कहा था कि मकान में पड़ी हुई लाश उनके गांव की नहीं है। लाश को देखकर ऐसा लगता है कि अज्ञात लोगों ने इसकी चोटें मारकर हत्या की है। वही पुलिस को गली में एक बुलेट मोटरसाइकिल खड़ी मिली थी वह भी बिंदर की बताई जा रही है।
समाचार लिखे जाने तक पुलिस वालों ने कुछ कहने से बच रही थी। पुलिस इस कांड की कई कडिय़ों को जोड़कर मुलजिम तक पहुंचने का प्रयास कर रही थी। इस मामले में पुलिस ने शव का पीजीआई में पोस्टमार्टम करवाकर पुलिस को सौंप दिया लेकिन परिजनों ने शव का दाह संस्कार करने से साफ कर दिया। परिजनों ने शव की एंबूलेंस सदर थाना के बाहर खड़ा करके सफीदों-जींद मार्ग को जाम कर दिया। परिजनों ने साफ किया कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक वे शव का दाह संस्कार नहीं करेंगे और ना ही जाम खोलेंगे। जाम की सूचना पाकर डीएसपी आशिष कुमार सदर थाना पहुंचे और परिजनों से बातचीत की। डीएसपी ने परिजनों को आश्वासन दिया कि आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ लिया जाएगा।
Advertisement