ओवरटेक करते वक्त बाइक की कैंटर से हुई टक्कर बाइक सवार की मौके पर ही हुई मौत, एक महिला घायल

88
Advertisement

ओवरटेक करते वक्त बाइक की कैंटर से हुई टक्कर
बाइक सवार की मौके पर ही हुई मौत, एक महिला घायल
गुस्साए परिजनों ने सफीदों-जींद सड़क मार्ग किया जाम

एस• के • मित्तल   
सफीदों,           नगर के जींद रोड स्थित गांव रताखेड़ा मोड़ के पास घटित एक सड़क दुर्घटना में एक बाइक सवार की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसके पीछे बैठी एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। घायल महिला की गंभीर अवस्था को देखते हुए उसे पीजीआई रोहतक रेफर किया गया है। मृतक युवक की पहचान अजय (18) निवासी गावं छाप्पर व घायल महिला की पहचान सुंदरी के रूप में हुई है।
मामले की सूचना सफीदों पुलिस को दी गई। सूचना पाकर सिटी थाना प्रभारी सुरेश कुमार व सदर थाना प्रभारी राजेश कुमार मौके पर पहुंचे। वहीं आरपीआई के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुनील गहलावत भी घटनास्थल पर पहुुंचे और पीडि़त परिवार को ढांढस बंधाया। वही कैंटर चालक घटना को अंजाम देकर मौके से फरार हो गया। मिली जानकारी के अनुसार गांव छापर का अजय सफीदों की एक वर्कशॉप में काम करता था। वह हर रोज की भांति वीरवार सुबह बाइक पर सवार होकर सफीदों आ रहा था रास्ते में उसने अपने ही गांव की सुंदरी नामक महिला को लिफ्ट देते हुए अपने साथ बिठा लिया था। जैसे ही अजय जींद रोड पर गांव रताखेड़ा मोड़ के पास पहुंचा और उसने एक गाड़ी को ओवरटेक किया तो सामने से आ रहे एक कैंटर ने उसे अपनी चपेट में ले लिया।
कैंटर की चपेट में आते ही अजय बाइक सहित सड़क पर गिरा और उसका फिर धरती में जाकर लगा। सिर सड़क में लगने के कारण अजय का काफी खून बह गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। वही बाइक पर बैठी महिला सुंदरी भी गंभीर रूप से घायल हो गई। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि इसकी आवाज काफी दूर तक सुनाई दी तथा बाइक के टुकड़े हो गए। घटना होते ही आसपास के लोग काफी लोग मौके पर जमा हो गए और आनन-फानन में घायल महिला सुंदरी को सफीदों के नागरिक अस्पताल में ले जाया गया। जहां पर डॉक्टरों ने महिला की गम्भीरावस्था को देखते हुए उसे पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया गया। इस घटना का पता चलते ही मृतक के परिजन व गांव छापर के काफी ग्रामीण मौके पर पहुंच गए और उन्होंने आक्रोश स्वरूप जींद-सफीदों मार्ग पर बेरिकेटिंग करके जाम लगा दिया। परिजनों व ग्रामीणों का आरोप था कि अजय का शव बहुत देर तक सड़क पर पड़ा रहा लेकिन बार-बार पुलिस व एंबुलेंस को फोन करने के बावजूद वे समय पर नहीं पहुंचे। जाम लगाने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची है। पुलिस आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए उन्हें ही धमका रही है।
उनका कहना था कि घटनास्थल से थाने की दूरी बहुत कम है लेकिन उसके बावजूद भी पुलिस समय पर नहीं पहुंची जिससे पुलिस विभाग की सरासर लापरवाही प्रदर्शित होती है। परिजनों का कहना था कि उन्हें न्याय चाहिए जब तक उन्हें न्याय नहीं मिल जाता और आरोपी के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो जाती वे  जाम को खोलने वाले नहीं है। ग्रामीणों की का कहना था कि अजय घर का इकलौता कमाने वाला था तथा उसी के ऊपर घर की गाड़ी चल रही थी। उसकी मृत्यु के पश्चात परिवार पूरी तरह से असहाय हो गया है। उन्होंने सरकार से मांग की कि मृतक के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए, 50 लाख रुपए मुआवजा दिया जाए तथा घटना के अंजाम देने वाले कैंटर चालक के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाए। जाम के दौरान परिवार की महिलाओं का रो-रोकर बुरा हाल था । जाम के कारण सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई। जाम को खुलता हुआ ना देख डीएसपी आशीष कुमार मौके पर पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों से बात की।
उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि सायं तक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जहां तक मुआवजे व नौकरी का मामला है वह प्रशासनिक अधिकार क्षेत्र में आता है। गांव व परिवार का एक प्रतिनिधिमंडल उनके साथ चले और वे एसडीएम से उनकी मुलाकात करवाएंगे। प्रशासन स्तर पर जो भी सहायता संभव हो पाएगी वह परिवार को दिलवाई जाएगी। डीएसपी के आश्वासन के उपरांत ग्रामीण मान गए और उन्होंने जाम हटा दिया।
Advertisement