30 सेकेण्ड में 285 पंच मारकर तुषार ने बनाया वल्र्ड रिकॉर्ड

107
Advertisement

दादा के प्रोत्साहन ने तुषार को खेल में आगे बढ़ाया
परिजनों व स्कूल में खुशी की लहर

एस• के• मित्तल
सफीदों, नगर के बीआरएसके स्कूल के 10वीं कक्षा के छात्र तुषार ने 30 सेकंड में 285 पंच मारकर हार्वर्ड वल्र्ड रिकॉर्ड बनाया है। साथ ही तुषार ने तीन फीट हाइट से 27 सेकेंड में 256 पंच के साथ भी वल्र्ड रिकॉर्ड कायम किया है।

SEE MORE:

तुषार की उपलब्धि पर परिजनों, स्कूल प्रबंधन व स्कूल के विद्यार्थियों में खुशी की लहर है तथा स्कूल प्रबंधन ने उसे मेरिट अवॉर्ड से सम्मानित करते हुए छात्रवृत्ति देने की घोषणा की। स्कूल की प्रधानाचार्या जया गुप्ता ने कहा कि तुषार ने यह उपलब्धि हासिल करके अपने माता-पिता व स्कूल का नाम गौरवान्वित किया है। तुषार ने बताया कि विडियो के माध्यम से प्रतिभागियों से पंचिंग क्लिप एकत्रित किए गए, उसके बाद उसे विजेता घोषित किया गया। तुषार पिछले 6 महीने से रोजाना घर पर 90 मिनट का अभ्यास कर रहा है। अब वह पुशअप में रिकॉर्ड बनाने की तैयारी कर रहा है। उसका सपना एक अच्छा बॉक्सर व रेसर बनकर देश के लिए मेडल लाने का है। तुषार ने बताया कि उसे क्रिकेट खेलने का शोक था। उसे क्रिकेट खेलते हुए देखकर उसके दादा लहना सिंह बड़े परेशान थे। दादा का मानना था कि आज के युवा क्रिकेट जैसे खेल खेलने लगे हैं, जबकि हरियाणा के खिलाड़ी तो दूध, दही व चूरमा खाते हैं और कबड्डी, कुश्ती व बाक्सिंग ज्यादा खेलते हैं।

पानीपत रोड स्थित 220kv पावर हाउस के पीछे बड़ी लाइन की सिटी फटने से जसवीर सिंह पुत्र सरदार सिंह की एक एकड़ गेहूं की फसल में लगी आग…

हरियाणा के तो ऐसे पहलवान होते थे जो बाक्सिंग में सामने वाले को एक पंच मारकर उसका मुंह सूजा देते थे। अपने दादा से प्रेरणा लेकर उसने इस खेल में अपना कदम रखा तथा बाक्सिंग का अभ्यास करते हुए हर रोज 8 से 10 घंटे पंच करने सीखे। दिन-रात के कड़े अभ्यास व जुनून की वजह से उसने यह रिकार्ड कायम किया है। तुषार ने बताया कि उसके पिता अनिल कुमार उपायुक्त कार्यालय पानीपत में रिकार्ड कीपर हैं तथा मां मोनिका गृहिणी हैं।

तुषार की इस उपलब्धि पर उसके माता-पिता खासकर दादा लहना सिंह बेहद खुश हैं। दादा लहना सिंह का कहना है कि उसके पोते तुषार ने एक नया इतिहास रचा है जो सभी युवा खिलाडिय़ों के लिए प्रेरणादायक है।

Advertisement