हांसी ब्रांच नहर पटरी पर किसी ने डाले सड़े हुए अंडे

124
Advertisement

लोगों का रहना व राहगीरों का निकलना हुआ मुश्किल

किसी बड़ी बीमारी के फैलने का बना अंदेशा

एस• के• मित्तल
सफीदों,   सफीदों के बीचोबीच गुजर रही हांसी ब्रांच नहर की पटरियों पर अनेक हैचरी व पोल्ट्री संचालकों ने मरे हुए मुर्गें व सड़े हुए अंडे डालने का ठिकाना बना लिया है। जिसके कारण इससे पैदा हो रही सडांध ने यहां पर निवासियों का जीना व राहगीरों का निकलना मुहाल हो गया है। इन मरे हुए अंडों व मुर्गों के कारण चारो और गंदगी व बदबू का आलम है तथा मोटी मक्खियों ने भी वहां पर अपना जमावड़ा बना लिया है। बताया जाता है कि यह सिलसिला पिछले 4 महीनों से लगातार चल रहा है। गांव रामपुरा की ओर जाने वाली पटरी के साथ लगते मकान मालिकों व सम्राट कॉलोनी निवासियों ने कई बार नगरपालिका के अधिकारियों को मौखिक तौर पर भी अवगत कराया लेकिन नगरपालिका द्वारा समस्या के निपटान के लिए कोई कदम नहीं उठाया। यहां के निवासी यशपाल देसवाल व राजेश कुुमार ने बताया कि वह हर रोज सुबह जल्दी उठकर अपने घर से रामपुरा की तरफ नहर पटरी से होते हुए टहलने के लिए जाते थे लेकिन अब बदबू व गंदगी के कारण उन्होंने इस ओर सैर पर जाना बंद कर दिया है क्योंकि इस क्षेत्र की आबो हवा इस कदर दूषित हो चुकी है कि कोई गंभीर बीमारी फैलने का अंदेशा पैदा हो गया है। उनका मानना है कि पिछले कई महीनों से कोई सुबह 4 से 5 के बीच खराब अंडे से ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर आता है व पटरियों के पास खाली करके चला जाता है। अब यह बदबू व इससे पैदा हुई मक्खियां आवासीय क्षेत्र को भी प्रभावित करने लग गई हैं। वहीं यहां पर पड़े हुए अंडों व मरे हुए मुर्गों को खा-खाकर आवार कुत्ते खुंखार हो गए हैं तथा वे लोगों को काटने लगे हैं।
यह भी देखें:-

ब्रीफकेस में युवती की लाश को ले जा रहा था युवक… शक होने पर पकड़ा… देखिए पुरा मामला…

ब्रीफकेस में युवती की लाश को ले जा रहा था युवक… शक होने पर पकड़ा… देखिए पुरा मामला…

 

बाक्स:

एक बार नहर के पानी में ही डाल दिए गए थे हजारों मरे हुए मुर्गें

सफीदों क्षेत्र में हैचरी एक हब के रूप में स्थापित हो चुका है लेकिन ज्यादातर हैचरियां हाईटेक नहीं है। इन हैचरियों में मरे हुए मुर्गों व सडे हुए अंडों को निपटान की कोई ठोस व्यवस्था नहीं है जिसके कारण सफीदों का कोई सुनसान इलाका नहीं है जहां पर मरे हुए मुर्गों व गले-सड़े अंडों को ना डाला जा रहा है। पिछले वर्ष कोरोना महामारी के बीच किसी ने सफीदों की इसी हांसी ब्रांच में भारी तादार में मरे हुए मुर्गें डाल दिए थे और नहर के पानी में चारो ओर मरे हुए मुर्गे तैरते हुए दिखाई पड़ रहे थे और वह रामपुरा स्थित बुर्जी पर जाकर इकट्ठा हो गए थे। मामला मीडिया में उजागर होने के बाद नहरी विभाग के एसडीओ ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। वहीं विभाग ने नहर से हजारों मरे हुए मुर्गे निकलवाकर उन्हे जमीन में दबवाया था।
YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement