सप्तमी पर जयंती देवी मंदिर में लगा मेला , स्वयं सेवकों ने संभाली व्यवस्था , सड़क पर नहीं लगने दिया जाम

101
Advertisement

 

 

एस• के• मित्तल        

जींद, चैत्र नवरात्र की सप्तमी के मौकेपर जींद शहर की कुलदेवी जयंती देवी मंदिर में शुक्रवार को हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने मां भगवती की पूजा अर्चना कर मन्नतें मांगी।

SEE MORE:

न्याय के लिए डीएसपी से मिली डिड़वाड़ा गांव की मीना देवी  , डीएसपी आशीष कुमार ने दिया उचित कार्रवाई का भरोसा

जयंती देवी मंदिर में मां भगवती के दर्शन करने के लिए पूरे दिन श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। जयंती देवी मंदिर में अल सुबह से ही श्रद्धालुओं की लंबी लाइनें लगनी शुरू हो गई थी। दिन निकलते-निकलते ही मंदिर परिसर में हजारों की संख्या में श्रद्धालु जमा हो गए तथा चारों तरफ मां भगवती के जयकारें गूंजने लगे। यह क्रम शाम तक जारी रहा। मंदिर परिसर में हवन-यज्ञ का आयोजन भी किया गया। मंदिर पुजारी नवीन कुमार शास्त्री के सान्निध्य में श्रद्धालुओं ने स्वयं सेवक बनकर व्यवस्था को संभाला और पिछले वर्षों की तरह इस मेले में भीड़ उमडऩे के बाद भी सड़क पर जाम नहीं लगने दिया। राजेंद्र शर्मा देबन, मास्टर सोमबीर मलिक, राजेंद्र शर्मा, अजय सचदेवा, मास्टर अजय भोला, विशाल कामरा, राम सुनेजा, अशोक सिंगला, सागर कौशिक ने व्यवस्था बनाये रखने के लिए जमकर पसीना निकाला। इस मौके पर मेले का भी आयोजन किया गया, जिसमें दर्जनों की संख्या में दुकानें लगाई गई थी। इन दुकानों पर महिलाओं तथा बच्चों ने जमकर खरीददारी की। देवी के दर्शन के लिए दूर दराज से महिलाओं की टोलियां भजन गाते हुए दर्शन के लिए आई।

खीर और पकौड़ों का खूब आनन्द लिया श्रद्धालुओं ने

महाभारतकालीन जयंती देवी मंदिर में नवरात्रों की सप्तमी पर लगने वाले मेले में दिन भर भंडारा चला। मंदिर पुजारी नवीन कुमार शास्त्री ने बताया कि इस भंडारे में व्रत धारियों के लिए भी खीर और पकौड़ों का प्रसाद तैयार किया गया था। शास्त्री ने बताया कि लगभग 6 क्विंटल खीर बनाई गई थी। यह खीर साबूतदाने से तैयार की गई थी, जबकि आलू और कट्टू के आटे से तैयार 4 क्विंटल पकोड़े बनाए गए थे। उन्होंने कहा कि मंदिर में नवरात्रों के दिनों के दौरान लगने वाले इस मेले में जींद ही नहीं, देश-प्रदेश भर से श्रद्धालु पहुंचते हैं। इस दिन मंदिर में मां की अर्चना का खास महत्व होने के कारण ही लाखों श्रद्धालु उमड़ते हैं।

 

फोटो कैप्शन : सप्तमी पर मां जयंती के दरबार में पूजा-अर्चना करते हुए श्रद्धालु।

Advertisement