शहीद मनोज भाटी के घर पहुंचे CM: परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा; शहीद के नाम पर होगा स्कूल का नामकरण

51
Quiz banner
Advertisement

 

जम्मू कश्मीर में राजौरी सेक्टर के परगल आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले में शहीद हुए राइफलमैन मनोज कुमार भाटी के घर फरीदाबाद के गांव शाहजहांपुर में बुधवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहुंचे। मुख्यमंत्री ने परिजनों को सांत्वना देने के साथ ही गांव के स्कूल का नाम मनोज भाटी के नाम से रखने तथा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का वादा किया।

कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन की याचिका पर नोटिस: भारतीय चुनाव आयोग और राज्यसभा सांसद कार्तिकेय शर्मा को 19 सितंबर तक देना है जवाब

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हमारे परिवार का एक जवान देश के लिए शहीद हो गया। उन्होंने कहा कि शहीद मनोज भाजी की शहादत पर हमें गर्व है। परिवार को दुख की इस घड़ी में सांत्वना देते आया हूं। परिवार की हर संभव मदद की जाएगी। सरकार की स्कीम के हिसाब से उन्हें हर लाभ दिया जाएगा। गांव के स्कूल का नामकरण भी उनके नाम पर किया जाएगा, जिससे उनकी शहादत हमेशा के लिए याद रहे।

शहीद के परिवार को सांत्वना देते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल।

बता दें कि आतंकियों ने 11 अगस्त की सुबह करीब सवा 3 बजे के आसपास आर्मी कैंप पर अचानक फायरिंग करते हुए घुसने का प्रयास किया था। संतरी ड्यूटी कर रहे शाहजहांपुर निवासी राजपूताना राइफल्स से सैनिक राइफलमैन मनोज भाटी ने अपने साथियों के साथ मिलकर आतंकियों पर जवाबी कार्रवाई की। दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में मनोज कुमार शहीद हो गए।

मैकबुक एयर एम2 89,800 रुपये में: 30,100 रुपये की छूट कैसे प्राप्त करें

शनिवार को उनके पैतृक गांव में उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया था। मनोज कुमार वर्ष 2017 में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। इसके बाद दिल्ली में उनकी ट्रेनिंग हुई। वहां से उनकी पोस्टिंग राजस्थान में रही। इसके बाद तैनाती जम्मू कश्मीर में की गई थी।

 

खबरें और भी हैं…

.
अंबाला में रिटायर सूबेदार के 21.40 लाख हड़पे: कॉलोनी कटने से पहले बुक कराए थे 840 गज के 5 प्लाट; केस दर्ज

.

Advertisement