वकीलों को अपने सोशल दायित्वों को भी निभाना चाहिए: जज अजय घनघस

49
Advertisement

न्यायिक परिसर सफीदों में किया गया ध्वजारोहण

एस• के• मित्तल   
सफीदों,            नगर के न्यायिक परिसर में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ध्वजारोहण किया गया। इस अवसर पर बतौर मुख्यातिथि जज अजय घनघस ने शिरकत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता बार एसोसिएशन सफीदों के अध्यक्ष मनजीत बैरागी ने की। ध्वजारोहण करने के उपरांत राष्ट्रगान गाया गया। वकीलों ने जज अजय घनघस को बुके देकर व पगड़ी पहनाकर जोरदार अभिनंदन किया। अपने संबोधन में जज अजय घनघस ने कहा कि आज पूरा देश आज आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर घर तिरंगा मुहिम चलाकर इस देश को राष्ट्र सम्मान के प्रति जागृत किया है। उन्होंने कहा कि जब इस देश की संविधान निर्माण सभा का गठन किया गया था, उसमें सबसे ज्यादा संख्या वकीलों की थी। वकीलों का कर्तव्य केवल अपने लिए पैसे कमाना ही नहीं बल्कि उनका दायित्व उससे कहीं अधिक बड़ा है। वकीलों को अपने पेशे के साथ-साथ सोशल दायित्वों को भी निभाना होगा। हर अधिवक्ता को संविधान निर्माता डा. भीमराव अंबेडकर के सपनों को पूरा करने के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोर्टों में लंबित पड़े केसों के निपटान के लिए जज अपना पूरा जोर लगा रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान न्यायालयों में जो केसों की संख्या बढ़ गई थी उनकी निरंतर सुनवाई करके उन्हे लेवल में लाने का प्रयास किया जा रहा है।
हर जरूरतमंद व गरीब आदमी को न्याय मिले इसके लिए सब डिवीजन, जिला, राज्य व केंद्र स्तर पर लीगल सर्विस कमेटी का गठन किया गया है। इस कमेटी में बहुत अच्छे लेवल के वकील कार्य करते हैं और गरीबों को मुफ्त कानूनी सहायता देने का कार्य करते हैं। हाल ही में गरीबों तक सुलभ न्याय के लिए नवनियुक्त सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने हर कोर्ट में डिफेंस काउंसिल के गठन की बात भी कही है। इस अवसर पर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनजीत बैरागी, एडवोकट एमपी जैन, एडवोकेट विनोद देशवाल, एडवोकेट नरेश सौलंकी, एडवोकेट हरीश शर्मा, एडवोकेट अभिषेक गर्ग व एडवोकेट गोपाल कृष्ण मित्तल मौजूद थे।
Advertisement