रक्तदान से बड़ा कोई महादान नहीं है: डा. सुदर्शन गोयल

137
Advertisement

श्री पंच परमेष्ठी युवा मण्डल रक्तदान शिविर आयोजित

 

 

एस• के• मित्तल

सफीदों, महावीर जयंती, राम नवमी एवं गुरुदेव सुदर्शन लाल महाराज के शताब्दी वर्ष के अवसर पर श्री पंच परमेष्ठी युवा मण्डल द्वारा श्री एसएस जैन सभा सफीदों के सहयोग से नगर की जैन स्थानक में विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।

SEE MORE:

श्री एस एस जैन सभा ने लगाया रक्तदान महाकुंभ… जैनसभा के प्रधान एडवोकेट एमपी जैन और मुख्य अतिथि डॉ सुदर्शन गोयल ने क्या कहा… देखिए लाइव…

 

रक्तदान शिविर में बतौर मुख्यातिथि समाजसेवी डा. सुदर्शन गोयल ने शिरकत की तथा अध्यक्षता एसएस जैन सभा के प्रधान एडवोकेट महावीर प्रसाद जैन ने की। शिविर में पीजीआई खानपुर से आई टीम ने करीब 100 स्वैच्छिक रक्तदाताओं को रक्त संग्रहित किया। इस शिविर में युवाओं के साथ-साथ महिलाओं ने भी बढ़-चढ़कर भाग लिया। डा. सुदर्शन गोयल ने रक्तदाताओं को बैज लगाकर और उन्हे प्रमाण पत्र देकर उनका हौसला बढ़ाया। अपने संबोधन में मुख्यातिथि डा. सुदर्शन गोयल ने कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है इसलिए रक्तदान को महादान कहते हैं, क्योंकि यह दान दूसरों की जिंदगी बचाने के साथ खुद की सेहत दुरुस्त करता है।

उन्होंने कहा कि विज्ञान ने हर वस्तु का विकल्प निकाला है लेकिन खून का कोई विकल्प नहीं है।

SEE MORE:

खून की कमी को केवल ब्लड डोनेशन के द्वारा ही पूरा किया जा सकता है। इसलिए हर सक्षम व्यक्ति को रक्तदान अवश्य करना चाहिए। रक्तदान करके दूसरों की अनमोल जिंदगियों को बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि रक्तदान करने से शरीर में उर्जा आती है, नए रक्तकोष बनते हैं, जिससे शरीर में तंदरूस्ती आती है। शरीर में आयरन का संतुलन बना रहता है। ह्रदय व कैंसर जैसे घातक रोगों का खतरा कम होता है। कार्यक्रम के समापन पर मुख्यातिथि डा. सुदर्शन गोयल व डाक्टरों की टीम को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

Advertisement