मेला बड़े पैमाने पर कानूनी जागरूकता फैलाने का अवसर प्रदान करता है : श्रीमती अमिता उदय उमेश ललित

81
Advertisement
एस• के• मित्तल
जींद,    जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव एवं मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी सुश्री रेखा ने बताया कि 19 मार्च से, 35 वें अंतराष्ट्रीय सूरजकुंड शिल्प मेले ने भारतीय लोक परंपराओं और सांस्कृतिक विरासत को मनाने के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं। अन्तर्राष्ट्रीय शिल्प मेला पखवाड़े के दौरान लाखों की संख्या में आगंतुकों को आकर्षित करता है, जिसमें हजारों विदेशी आगंतुक भी शामिल हैं। सूरजकुंड मेला दुनिया का सबसे बड़ा शिल्प मेला है, जो भारत के हस्तशिल्प, हथकरघा और सांस्कृतिक ताने-बाने की समृद्ध विविधता को प्रदर्शित करता है। हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने 35वें अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले में आम जनता को उनके कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए एक स्टॉल भी लगाया है। स्टॉल का संचालन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, फरीदाबाद के पैनल एडवोकेट और पैरा लीगल वालंटियर्स द्वारा किया जा रहा है। स्टॉल 19 मार्च से 4 अप्रैल तक चालू रहेगा। आम जनता को उनके कानूनी अधिकारों को जानने में मदद करने के लिए उक्त स्टॉल पर पैनल वकीलों और पैरा लीगल वालंटियर्स की प्रतिनियुक्ति की जाती है। उक्त स्टॉल पर वहीं आवेदन फॉर्म भरवाकर कानूनी सहायता प्रदान की जा रही है।
विगत 28 मार्च का Ms. Amita Uday Umesh Lalit w/o HonÓble Mr. Justice Uday Umesh Lalit, Judge Supreme Court of India-cum-E&ecutive Chairperson, NALSA  ने सूरजकुंड अन्तर्राष्ट्रीय शिल्प मेला में हालसा द्वारा स्थापित स्टॉल का दौरा किया और कानूनी सहायता की उपलब्धता के बारे में जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ विभिन्न सामाजिक कानूनी मुद्दों पर जागरूकता पैदा करने के लिए टीम को प्रोत्साहित किया। अमिता उदय उमेश ललित ने बातचीत करते हुए कहा कि मेला बड़े पैमाने पर कानूनी जागरूकता फैलाने का अवसर प्रदान करता है।इस वर्ष सूरजकुंड मेले में हालसा द्वारा स्थापित स्टाल की थीम ’’बालिका’’ है। अमिता उदय उमेश ललित ने चुने गए विषय की सराहना की और कहा कि इसे ध्यानपूर्वक चुना गया है क्योंकि यह बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता और उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण के महत्व को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

इसके बाद श्रीमती अमिता उदय उमेश ललित ने लड़कियों के अधिकारों के विषय पर हालसा द्वारा डिजाइन और तैयार किए गए एक पोस्टर का उद्घाटन किया। पोस्टर का उद्देश्य लड़कियों के कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूकता पैदा करना है जैसे मुफ्त कानूनी सहायता का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, बाल-विवाह के खिलाफ अधिकार, परिवार के अपमानजनक सदस्यों के खिलाफ अधिकार, संपत्ति का अधिकार, कार्यस्थल पर यौन उत्पीडऩ के खिलाफ अधिकार, समान वेतन का अधिकार, थाने में न बुलाने का अधिकार, कन्या-भ्रूण हत्या के खिलाफ अधिकार। पोस्टर को द्विभाषी भाषा यानी हिंदी और अंग्रेजी दोनों में डिजाइन और मुद्रित किया गया है क्योंकि यह सभी लोगों को पढऩे और समझने में मदद करेगा। उक्त पोस्टर सभी वन स्टॉप सेंटरों पर विशिष्ट सार्वजनिक स्थानों पर लगाया जाएगा।
यह भी देखें:-

राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन रोडवेज कर्मचारयों ने दिया समर्थन… सफीदों बस स्टैंड से देखिए लाइव…

राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन रोडवेज कर्मचारयों ने दिया समर्थन… सफीदों बस स्टैंड से देखिए लाइव

इसके बाद, श्रीमती अमिता उदय उमेश ललित ने एक कहानी के रूप में हिंदी में डिजाइन और मुद्रित एफआईआर (प्रथम सूचना रिपोर्ट) पर एक पुस्तिका का भी उद्घाटन किया। यह पुस्तिका सभी नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका उद्देश्य आपराधिक कानून को गति प्रदान करना है। बुकलेट में प्राथमिकी दर्ज करने के सभी प्रावधानों और उद्देश्यों के बारे में बताया गया है और यह भी बताया गया है कि प्राथमिकी कैसे पुलिस थाने के प्रभारी पुलिस अधिकारी को अपराध की जांच शुरू करने और जल्द से जल्द सबूत एकत्र करने में सक्षम बनाती है। इसके अलावा विभिन्न सामाजिक कानूनी मुद्दों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए स्कूल और कॉलेज के बच्चों द्वारा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, फरीदाबाद के समन्वय से मुख्य मंच के साथ-साथ इस प्राधिकरण द्वारा स्थापित स्टॉल पर नाटक और सांस्कृतिक गतिविधियों का भी प्रदर्शन किया गया।
YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement