महिला अग्रवाल वैश्य समाज ने श्री गौशाला में गऊओं को किया सवामणी का वितरण

136
Advertisement

 गौमाता चलते-फिरते एक अस्पताल के समान – सरोज गोयल

एस• के• मित्तल
सफीदों,     महिला अग्रवाल वैश्य समाज की महिलाओं ने नगर की श्री गौशाला में गऊओं को सवामणी खिलाई। कार्यक्रम की अध्यक्षता महिला अध्यक्षा सरोज गोयल ने की। वैश्य महिलाएं नगर के जींद रोड़ स्थित श्री गौशाला में पहुंची और अपने हाथों से वहां पर गुड़, बाजरा, गेंहू व अन्य अनाजों को मिलाकर सवामणी तैयार की। महिलाओं ने गौशाला में निवास कर रही गऊओं को सवामणी का वितरण किया। अपने संबोधन में प्रधान सरोज गोयल ने कहा कि गाय का आध्यात्मिक व वैज्ञानिक दोनों प्रकार से महत्व है। गौमाता एक चलते-फिरते एक अस्पताल के समान है। जो गौमाता की पूजा-अर्चना करता है, उसे आरोग्य मिलता है।
यह भी देखें:-
शराब व्यापारी गौरव अग्रवाल की हत्या पर पूर्व मुख्यमंत्री मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने उनके निवास स्थान पहुंच कर शोक व्यक्त किया… क्या कहा सुनिए लाइव…
एक गाय में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास होता है। गायों की सेवा करके 33 करोड़ देवी-देवताओं की पूजा का पुण्य लाभ प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि गाय की सेवा करने से बड़ा पुनीत कार्य कोई दूसरा नहीं है। समाज का हर वर्ग इसमें सहभागी बने और पुण्य कमाएं। इस मौके पर श्री गौशाला के अध्यक्ष शिवचरण कंसल ने महिलाओं द्वारा लगाई गई सवामणी की भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए कहा लोगों को इस प्रकार के कार्य निरंतर करते रहने चाहिए। इस प्रकार के कार्यों से जहां गौवंश का भरण-पोषण अच्छे प्रकार से होगा ही वहीं लोग पुण्य के भागी भी बनेंगे। इस मौके पर प्रधान सरोज गोयल के अलावा आशा गर्ग, मंजू गर्ग, कमलेश गर्ग, मधू जिंदल, निशा तायल व बबीता मित्तल मौजूद थीं।
Advertisement