Safidon : भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ माल गोदाम में कार्यरत्त श्रमिकों के हक के लिए संघर्षरत – सुनीता चंदन

182
Advertisement
एस• के• मित्तल
सफीदों,   भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ रेलवे माल गोदाम में कार्य करने वाले श्रमिकों के हक अधिकार के लिए संघर्षरत है। यह बात भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ की जिला सहप्रभारी सुनीता चंदन ने पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ ने 28 अक्टूबर 2003 को तात्कालीन श्रम मंत्री स्व. डा. साहिब सिंह वर्मा की अध्यक्षता में आयोजित हुई प्रथम त्रिपक्षीय बैठक में सरकार के सामने यह प्रस्ताव रखा था कि श्रम कानूनों में संशोधन करके रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों के हकों एवं अधिकारों के लिए उसमें विशेष प्रावधान लागू किया जाए। इसी बैठक में पहली बार रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों को रेलवे द्वारा 4 मूलभूत आवश्यक सुविधाओं पीने का पानी, शौचालय, स्नानघर व विश्राम घर का प्रस्ताव पारित किया गया था। वहीं 23 मार्च 2021 को श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार की अध्यक्षता में आयोजित हुई दूसरी त्रिपक्षीय बैठक में श्रमिक संघ द्वारा रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों के भविष्य को सुरक्षित करने हेतु 13 मांगों को प्रस्तुत किया गया। जिस पर श्रम मंत्रालय ने श्रमिक संघ के द्वारा रखी गई 13 मांगों को जायज करार देते हुए उन्होंने अपनी स्वीकृति प्रदान की। इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों का भी सरकारी पंजीकरण करके भारत सरकार द्वारा जारी सभी योजनाओं से श्रमिकों को लाभान्वित किया जाए। इसी संदर्भ में संघ द्वारा सर्वप्रथम दिल्ली प्रदेश से रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों का पंजीकरण कार्य विधि एवं न्याय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल, लोकसभा सांसद जगदंबिका पाल एवं लोकसभा सांसद अपराजिता सारंगी के द्वारा प्रारंभ की गई। तत्पश्चात बंगाल, आसाम, हरियाणा व बिहार सरकार एवं भारतीय रेलवे माल गोदाम श्रमिक संघ के नेतृत्व में भारत के लगभग सभी राज्यों में कैंप लगाकर रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों का ई-श्रम पोर्टल में पंजीकरण का कार्य जारी है। रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों का एक विशेष कोड जारी किया गया। जिससे रेलवे माल गोदाम के कर्मचारी के रूप में उन्हें अपनी पहचान मिली है। उन्होंने कहा कि रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों का पंजीकरण संपन्न होने के बाद संगठन रेल मंत्रालय एवं श्रम मंत्रालय के साथ बैठक करके श्रमिकों का डेटाबेस प्रस्तुत करके रेलवे माल गोदाम के श्रमिकों को सही मजदूरी दर व वेतनमान सुनिश्चित करवाने की दिशा में काम करेगी।
Advertisement