बिजली कर्मचारियों ने 22 फरवरी की राज्यव्यापी हड़ताल को दिया समर्थन

128
Advertisement
एस• के• मित्तल
सफीदों,    एचएसईबी वर्कर यूनियन द्वारा घोषित 22 फरवरी की राज्यव्यापी और आल इंडिया एम्प्लाइज एवं मजदूर संगठनों के द्वारा  घोषित 23 व 24 फरवरी की राष्ट्रीय हड़ताल को सफल बनाने के लिए शुक्रवार को बिजली बोर्ड प्रांगण में सफीदों यूनिट के कर्मचारियों ने मिलकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए गेट मीटिंग की। गेट मीटिंग की अध्यक्षता अनिल इंदल और संचालन सुरेश खर्ब ने किया। कर्मचारी नेताओं ने गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए कहा कि अब पानी सिर से ऊपर जा चुका हैं। अब कोई भी कर्मचारी ना तो सस्पेंड होने से डरेगा ना ही टर्मिनेट होने से डरेगा बल्कि इस गूंगी बहरी, जनता और कर्मचारी का शोषण करने वाली निक्कम्मी सरकार को ही सस्पेंड करके दम लेगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की पूर्व लंबित पड़ी मांगो के बारे में सरकार के साथ कई दौर की बातचीत होने के बावजूद भी आज तक इनकी मांगो को पूरा नहीं किया गया हैं।
यह भी देंखे:-
कर्मचारियों की मुख्य मांगे बिजली बिल कानून रद्द करना, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करना, एक्सग्रेसिया स्कीम संसोधन करना, समान काम समान वेतन देना, क्लेरिकल स्टाफ का वर्दी भत्ता लागु करना, पुरानी पेंशन को बहाल करना है। यह सभी मांगे पूरी नहीं होने के कारण कर्मचारियों में सरकार के प्रति रोष पनप रहा हैं। इसके अलावा जब भी कर्मचारी अपने हितों की आवाज उठाते हैं तो उनके ऊपर एस्मा जैसा काला कानून लगा दिया जाता है। यूनिट प्रधान जितेंद्र भारद्वाज ने कहा कि आने वाले समय में सभी कर्मचारी सरकार की ईंट से ईंट बजा देंगे और अपनी सभी जायज मांगो को मनवाकर ही दम लेंगे। इस मौके पर अनिल पुनियां, शिव कुमार, मोहिंद्र खेड़ा, वीरेंद्र सिंह, नरेश गांगोली, रोहतास, बिजेंद्र गुड्डू , रामधन, शंकर, अमित कुमार, वजीर लाम्बा, सुरेंद्र सिंह, कपिल शर्मा, सुनील, शमशेर सिंह व दयानंद सहित काफी तादाद में कर्मचारी मौजूद थे।
Advertisement