पानीपत में 17.39 लाख की लूट का पर्दाफाश: कलेक्शन सुपरवाइजर ने ही जीजा संग मिलकर बनाई प्लानिंग; सैलरी न बढ़ने पर था आहत

50
Advertisement

 

हरियाणा के पानीपत के नेशनल हाईवे 44 पर पुलिस लाइन के सामने हुई 17.39 लाख की लूट का महज 24 घंटे में पर्दाफाश हो गया है। वारदात किसी और ने नहीं बल्कि खुद शिकायतकर्ता कलेक्शन सुपरवाइजर ने अपने कुरुक्षेत्र निवासी जीजा के साथ मिलकर की थी।

श्रद्धालुओं के लिए चलेगा भंडारा विश्राम की भी होगी व्यवस्था: धर्मनगरी हिसार में छठे श्री शरद्पूर्णिमा महोत्सव के उपलक्ष्य में बाबा के दरबार सालासर, पैदल जाने वाले यात्रियों के लिए 7 दिवसीय भंडारा

पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर, कैश बरामद कर लिया है। आरोपियों को शुक्रवार को पुलिस कोर्ट में पेश कर आगामी कार्रवाई अमल में लाएगी। पुलिस के सीआईए-3 यूनिट ने इस लूट को सुलझाया है।

एसपी शशांक कुमार सावन ने बताया कि पुलिस पूछताछ में आरोपी सुखजीत ने बताया कि वह वर्धमान फैक्ट्री में काम करता था। वह पिछले करीब 14 सालों से फैक्ट्री में कलेक्शन सुपरवाइजर के तौर पर कार्यरत है।

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी कलेक्शन सुपरवाइजर और उसका जीजा।

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी कलेक्शन सुपरवाइजर और उसका जीजा।

वह काफी सालों से फैक्ट्री मालिक को तनख्वाह बढ़ाने के बारे में कह रहा था, मगर उसकी तनख्वाह नहीं बढ़ाई गई। इसके अलावा उसका फील्ड में घूमने का पेट्रोल और चाय पानी आदि का खर्च भी काफी हो रहा था।

नारनौल में PO की संपत्ति फ्रीज: कनीना सदर केस में भगोड़े रोशन लाल के मकान, प्लाट और खेत अटैच

सुखजीत ने बताया कि वह जानता था कि सप्ताह में एक चक्कर कपूर इंडस्ट्री से रुपए लाने का जरूर ही लगता है। उसे पता था कि इस इंडस्ट्री से लाखों रुपए लेकर आने होते हैं। इसी के चलते काफी दिनों पहले उसने अपनेजीजा सुखबीर के साथ मिलकर प्लानिंग बनाई।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मामले का खुलासा करते एसपी शशांक कुमार सावन।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मामले का खुलासा करते एसपी शशांक कुमार सावन।

प्लानिंग के तहत बुधवार को वह कपूर इंडस्ट्री से 17 लाख 39 हजार 200 रुपए लेकर चला और बीच रास्ते में अपने जीजा को बैग पकड़ा कर लूट की झूठी सूचना पुलिस को दी।

लगातार बदल रहा था बयान, सवालों में गिरा सुखजीत

इतनी बड़ी वारदात होने के बाद से पुलिस अलर्ट हो गई। एसपी ने मामले में तीनों CIA समेत थाना पुलिस को लगाया। साथ ही मामले का जल्द खुलासा करने के भी निर्देश दिए। इस दौरान पुलिस ने शिकायतकर्ता सुखजीत से घटना के बारे में पूछताछ शुरू की।

कल तक था पीड़ित, आज बना आरोपी सुखजीत।

कल तक था पीड़ित, आज बना आरोपी सुखजीत।

पुलिस पूछताछ में सुखजीत लगातार घटनास्थल, वारदात का तरीका, वारदात में आरोपियों की संख्या, वारदात में प्रयुक्त बाइक अलग-अलग बता रहा था। इसके अलावा सुखजीत बदमाशों द्वारा उस पर तानी गई पिस्तौल की जगह भी बार-बार बदल रहा था। ऐसे में उस पर शक गहराता गया और सख्ती से पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल किया।

 

खबरें और भी हैं…

.केंद्र का हरियाणा और पंजाब को झटका: शहीद भगत सिंह एयरपोर्ट में सिर्फ चंडीगढ़ का नाम; पंचकूला-मोहाली का जिक्र नहीं

.

Advertisement