पानीपत में बाइक एजेंसी से फर्जीवाड़ा: नकली दस्तावेजों पर मोटर साइकिल ली, दूसरी लेने आया तो हुआ खुलासा; आरोपी फरार

26
Advertisement

 

मामले का खुलासा होने पर एजेंसी कर्मियों ने दोनों युवकों को पकड़ लिया था, मगर वे कर्मियों को चकमा देकर भाग गए। पुलिस ने एजेंसी मैनेजर की शिकायत के आधार पर आरोपियों के खिलाफ IPC की धारा 420, 465, 468 व 471 के तहत केस दर्ज कर लिया है।

न्यायाधीश नियमों के अनुरोध के रूप में एलोन मस्क सीमित ट्विटर डेटा प्राप्त करता है “बेतुका व्यापक”

फर्जी आधार कार्ड, जो शामली के पते पर पंजीकृत है, मगर लिखा पानीपत का हुआ है।

फर्जी आधार कार्ड, जो शामली के पते पर पंजीकृत है, मगर लिखा पानीपत का हुआ है।

SDM ऑफिस में जांच करवाए थे दस्तावेज

सेक्टर-29 थाना पुलिस को दी शिकायत में सत्यवान ने बताया कि वह गांव सौंदापुर का रहने वाला है। वह गांव सिवाह स्थित कादियान ऑटो मोबाइल कंपनी में बतौर मैनेजर कार्यरत है। करीब 1 माह पहले उवेश निवासी गांव पत्थरगढ़ का आधार कार्ड लेकर एक शख्स आया था, जिसने एक बाइक फाइनेंस करवाई थी।

उसने डाउन पेमेंट के नाम पर 12 हजार रुपए भी दिए थे। वह वहां से बाइक लेकर चला गया था। 27 अगस्त को फिर से यही लड़का एक अन्य युवक को साथ लेकर आया। इस बार उसने फिर इन्हीं दस्तावेजों पर बाइक फाइनेंस करने की बात कही। शक होने पर दस्तावेज लेकर SDM कार्यालय में चेक करवाए गए।

स्पाइवेयर फर्म 64 करोड़ रुपये में किसी भी एंड्रॉइड, आईओएस डिवाइस को हैक करेगी: सभी विवरण

जब वहां से पता लगा कि इन दस्तावेजों पर पहले बाइक दी जा चुकी है और आधार कार्ड पर अंकित नंबर UP के शामली जिले में रजिस्टर्ड है, जबकि आधार कार्ड पर गांव पत्थरगढ़ का पता लिखा हुआ था तो मामले का खुलासा हुआ और एजेंसी कर्मचारियों ने आरोपी दोनों युवकाें को पकड़ लिया।

जिस दौरान उसने अपनी पहचान उवेश पुत्र युसुफ व दूसरे युवक ने अरसद पुत्र आमिल गांव दवेड़ी खुर्द थाना कैराना यूपी के रुप में बताई। कुछ ही देर में दोनों युवक कर्मचारियों को धोखा देकर वहां से भाग निकले।

 

खबरें और भी हैं…

.
सोनाली फोगाट हत्याकांड में क्लब मालिक गिरफ्तार: गोवा पुलिस ने ड्रग पैडलर को भी दबोचा, बाथरूम से ड्रग्स बरामद; कांग्रेस ने जांच पर उठाए सवाल

.

Advertisement