पंचायत चुनाव: शिक्षा में पिछड़े नूंह से 6 डॉक्टर मैदान में, दूसरे जिलों में भी इंजीनियर व वकील लड़ रहे चुनाव

20
Quiz banner
Advertisement

 

 

पहले चरण के पंचायती चुनाव में 9 जिलों में इस बार 17 हजार 539 उम्मीदवार सरपंची के लिए अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

इनमें 9566 पुरुष व 7973 महिलाएं चुनावी मैदान में हैं। उम्मीदवारों की औसत उम्र 36 साल हैं। ऐसे में इस बार गांवों की चौधर युवाओं को ही मिलने वाली है।

युवा होने की वजह से उम्मीदवार भी ज्यादा पढ़े लिखे हैं। प्रदेशभर में पांचवी पास उम्मीदवारों की संख्या सिर्फ 6 है, जबकि 2134 उम्मीदवार 8वीं पास, 9993 दसवीं पास व 3395 उम्मीदवार 12वीं पास हैं।

पंचायत चुनाव: शिक्षा में पिछड़े नूंह से 6 डॉक्टर मैदान में, दूसरे जिलों में भी इंजीनियर व वकील लड़ रहे चुनाव

इनके अलावा 1996 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनकी शिक्षा स्नातक या उससे अधिक है। पंचायती चुनाव में इस बार खास बात ये है कि शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश का सबसे पिछड़ा जिला माने जाने वाले नूंह से ही इस बार सबसे ज्यादा प्रोफेशनल डिग्री धारक चुनावी मैदान में है।

नूंह से ऐसा जिला है जहां से दो एमबीबीएस डॉक्टर, एक सर्जन, एक डेंटल सर्जन भी चुनावी अखाड़े में उतरे हुए हैं। इसके अलावा डी फार्मेसी, बी फार्मेसी व एलएलएम डिग्री धारक भी सबसे ज्यादा इसी जिले सरपंच बनने के लिए जोर आजमाइश में जुटे हैं।

पांचवी पास उम्मीदवारों की संख्या सिर्फ 6 है, जबकि 2134 उम्मीदवार 8वीं पास

पहले चरण में यमुनानगर से सबसे ज्यादा उम्मीदवार

पहले चरण के पंचायती चुनाव में सरपंच पद के लिए सबसे ज्यादा उम्मीदवार यमुनानगर से व सबसे कम उम्मीदवार पंचकूला से हैं। यमुनानगर से 2658 लोगों ने व पंचकूला से सिर्फ 623 लोगों ने ही सरपंच पद के लिए आवेदन किया है। उम्र के अनुसार नूंह से सबसे ज्यादा युवा मैदान में हैं।

पुलिसकर्मियों को भारी पड़ी दादागिरी: फाजिलपुर में शराब के नशे में सब इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिस कर्मियों ने घर में रौब दिखाकर मांगा हुक्का, ग्रामीणों ने कर दी उनकी धुनाई

यहां पंचायती उम्मीदवारों की औसत उम्र सबसे कम 30 वर्ष है, जबकि इस मामले में झज्जर के उम्मीदवारों की औसत उम्र पहले चरण में सबसे ज्यादा 38 वर्ष है।

किस जिले में कितने आवेदन

उम्मीदवारों की शिक्षा

नोट: सभी आंकड़े पंचायत राज इंस्टिट्यूशन के पोर्टल अनुसार है।

नोट: सभी आंकड़े पंचायत राज इंस्टिट्यूशन के पोर्टल अनुसार है।

जींद के 14 गांवों में सरपंची के लिए एक-एक नामांकन

पंचायती चुनाव में सरपंची पद के लिए जींद के 14 गांवों से एक-एक नामांकन दाखिल हुआ है, जिनमें जींद ब्लॉक के हैबतपुर, बहबलपुर, अलेवा ब्लॉक के हसनपुर, संडील, जुलाना खंड के गांव हथवाला, पिल्लूखेड़ा खंड के खरक गादिया, सफीदों खंड के नया सिवाना माल, नरवाना खंड के गांव कर्मगढ़, सुल्हेड़ा, उझाना ब्लॉक के गांव गढ़ी में एक एक नामांकन दाखिल हुआ है। इसी प्रकार उचाना खंड के दरोली खेड़ा, उचाना खुर्द, सेढ़ा माजरा व सफाखेड़ी गांव में भी सरपंच पद पर सर्वसम्मति बनी है।

झज्जर में ग्रामीणों की समस्याओं पर चर्चा: एसईसीआई ने कबलाना में चलाया जनसंपर्क अभियान; मांगा खराब फसलों का मुआवजा

सरपंच पद के उम्मीदवार काे परिवार समेत मारने की धमकी

यमुनानगर गांव बाल छप्पर में एक और सरपंच उम्मीदवार को धमकी मिली है। इससे पहले अनुराधा के घर पर बदमाश फायरिंग कर चुके हैं। दाे आराेपियों ने उन्हें चुनाव लड़ने पर जान से मारने की धमकी दी थी। अब दूसरी उम्मीदवार परमिंद्र कौर के परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है।

इसे लेकर उसके परिवार ने शिकायत पुलिस को दी है। छप्पर पुलिस ने शिकायत पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

वहीं, पुलिस कॉल डिटेल खंगाल रही है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। ग्रामीणों को डरने की जरूरत नहीं है। पुलिस की गई टीमें आरोपियों की तलाश में लगी हैं।

4 गांव में नहीं भरा नामांकन

जींद में पंचायत समिति के 8 वार्डों में सर्वसम्मति बनने पर एक-एक नामांकन भरा गया। वहीं जींद के गांव चाबरी, राेजखेड़ा, फरैणखुर्द व भिड़ताना के ग्रामीणाें ने नामांकन नहीं भरा था।

 

खबरें और भी हैं…

.
झज्जर में ग्रामीणों की समस्याओं पर चर्चा: एसईसीआई ने कबलाना में चलाया जनसंपर्क अभियान; मांगा खराब फसलों का मुआवजा

.

Advertisement