नागरिक अस्पताल के डाक्टरों ने लिए टीबी मरीज गोद

68
Advertisement

 

गोद लिए गए मरीजों को दी पोष्टिक आहार की कीट

 

एस• के• मित्तल     

सफीदों, प्रधानमंत्री टीबी मुक्त अभियान के तहत सफीदों के नागरिक अस्पताल में कार्यरत्त 10 डाक्टरों ने एक-एक टीबी मरीज को गोद लिया। इस मौके पर एसएमओ डा. जयपाल चहल, डा. विकास गुप्ता, डा. प्रिति, डा. तुषार, डा. प्रदीप, डा. प्रतीक, डा. अंशुल, डा. अजय, डा. हिमांशु व डा. रश्मि व अस्पताल स्टाफ मौजूद था।

फसल पंजीकरण के लिए करनाल में दोबारा खुला पोर्टल: 25 सितंबर तक वंचित किसानों के पास मौका, अब तक 510129 किसानों ने करवाया पंजीकरण, 9 हजार अभी भी वंचित

सभी डाक्टरों ने गोद लिए टीबी मरीजों को पोष्टिक भोजन व दवाईयां उपलब्ध करवाई। इसके अलावा डाक्टरों ने मरीजों को अपने-अपने मोबाइल नंबर भी उपलब्ध करवाए ताकि मरीज किसी भी समय अपने डाक्टर से सीधा संपर्क कर सके। डाक्टरों ने टीबी मरीजों को बीमारी के उपचार व बचाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी। गौरतलब है कि उप सिविल सर्जन (टीबी) जींद ने प्रवर चिकित्सा अधिकारी एसडीएच/सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, नरवाना, सफीदों, कालवा, कंडेला, खरक रामजी, जुलाना, उचाना, उझाना, अलेवा व मुवाना को पत्र लिखकर कहा है कि भारत सरकार के टीबी मुक्त भारत अभियान के अन्तर्गत सभी स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा एक-एक टी.बी. के मरीज को सामुदायिक सहायता के लिए टीबी मरीजों को चिन्हित करके उन्हे गोद ले

अपराधियों के ठिकानों पर सरकार का वार: गुड़गांव में प्रशासन ने गैंगस्टर सुबे गुर्जर के अवैध निर्माण पर चलाया बुल्डोजर

और उन्हे समय पर आवश्यक इलाज व सहायता उपलब्ध करवाएं। एसएमओ डा. जयपाल चहल ने बताया कि प्रधानमंत्री टीबी मुक्त अभियान के तहत डाक्टरों के द्वारा टीबी मरीजों को गोद लिया गया है। सभी डाक्टर गोद लिए गए मरीज को समय पर उपचार देंगे व दवाईयां उपलब्ध करवाएंगे। इसके अलावा डाक्टर मरीज की लगातार मॉनिटिरिंग भी करेंगे। उन्होंने बताया कि सरकारक की एक अभियान के तहत वर्ष 2025 तक देश को टीबी मुक्त किए जाने की योजना है। उन्होंने बताया कि टीबी का पूर्ण ईलाज संभव है तथा स्वास्थ्य केंद्रों पर मुफ्त ईलाज की सुविधा है। इसके अलावा सरकार की ओर से टीबी मरीज को आर्थिक सहायता भी दी जा रही है

Advertisement