नप रसीद घोटाले में पुलिस को मिली फर्जी रसीदों की पूरी बुक, अकाउंटेंट को प्रोडक्शन वारंट पर लाने की तैयारी

भिवानी, जागरण संवाददाता। भिवानी के नगर परिषद के रसीद घोटाले की परते अब धीरे-धीरे खुल रही हैं। पुलिस की इकनोमिक सेल को रसीद घोटाले की एक पूरी फर्जी रसीद बुक बरामद हुई है। जिसमें सभी रसीदें फर्जी तरीके से काट कर रकम हड़प की गई है। इस मामले के सूत्रधार जेल में बंद नप के तत्कालीन अकाउंटेंट सुरेश को पुलिस अब प्रोडक्शन वारंट पर लाने की तैयारी कर रही है। उससे इस मामले में पूछताछ की जाएगी। साथ ही रकम भी बरामद की जाएगी।

हरियाणा में 22 आइपीएस का तबादला, सोनीपत और नारनौल के एसपी बदले, हनीफ कुरैशी पंचकूला के सीपी

फर्जी रसीद घोटाला खुलेआम चला

नगर परिषद में पिछले पांच साल से चेयरमैन रणसिंह यादव के कार्यकाल में फर्जी रसीद घोटाला खुलेआम चलता रहा। रसीद काट कर सरकारी खाते में ना डालकर खुद की जेब में डाली जाती रही। एसपी अजीत सिंह शेखावत द्वारा इस मामले को पूरी तरह से गंभीरता से लिया जा रहा है। रसीद घोटाले में दो अलग-अलग एफआइआर दर्ज की गई है। एक मामले में आरोपित रजनीश व उसके साथी हरिश को गिरफ्तार कर जेल भेजा चुका है। निर्वतमान पार्षद नरेंद्र सर्राफ का रजनीश सगा भतीजा है। इसलिए दूसरी एफआइआर नरेंद्र सरार्फ व वाइस चेयरमैन मामन चंद के खिलाफ दर्ज की गई है।

चेक घोटाले में जेल में बंद नप के अकाउंटेंट सुरेश का नाम उजागर हुआ है। जांच में पता चला कि सुरेश भी एक रसीद बुक अपनी गाड़ी में रखता था। जिसमें फर्जी रसीद काट कर लोगों को दी जाती और रकम अपनी जेब में डालते थे। जिसके कारण सुरेश की मुश्किलें बढ़ती जा रही है।

एसपी भिवानी के अनुसार

 

—– अजीत सिंह, शेखावत, एसपी भिवानी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!