Safidon : नंदीशाला में गौवंश की दुर्दशा पर गौभक्तों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर दी चेतावनी

115
Advertisement

कहा – प्रशासन करें व्यवस्था अन्यथा एसडीएम कार्यालय में छोड़े जाएंगे नंदी

एस• के• मित्तल
सफीदों,      सफीदों की नंदीशाला की बदहाल व्यवस्था को लेकर गौभक्तों ने एक ज्ञापन एसडीएम आईएएस डा. आनंद कुमार शर्मा को सौंपा। ज्ञापन की अगुवाई नंदी गौसेवा धाम के संचालक योगी दीपक चौहान व विश्व हिंदू परिषद के जिला उपाध्यक्ष अरविंद शर्मा ने की। ज्ञापन में गौभक्तों का कहना था कि वर्तमान में नंदीशाला की हालत बेहद खस्ता है। व्यवस्थाओं के अभाव में नंदी व गौवंश बीमार होकर मरने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि इस समय नंदीशाला में एक बड़े शैड, पक्के फर्श व आर्थिक मदद की दरकार है। वे इस मामले को लेकर हरियाणा गौ सेवा आयोग के चेयरमैन एवं प्रशासनिक अधिकारियों से कई बार मिल चुके हैं लेकिन उन्हें कोरे आश्वासनों के अलावा कुछ भी नहीं मिला। उन्होंने कहा कि बारिश के कारण यहां की स्थिति ओर अधिक खराब हो गई है। नंदीशाला में चारो ओर कीचड़ ही कीचड़ पैदा हो गया है। भयंकर ठंड के कारण नंदी व गौवंश निरंतर बीमार हो रहे हैं। हालात यह हो गए हैं कि नंदियों के लिए वहां बैठना तो दूर खड़ा होना ही मुश्किल हो गया है। अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा तो नंदियों की मृत्यु दर संख्या बढ़ सकती है। उनका कहना था कि समाज की नजर में तो नंदीशाला प्रशासनिक तौर पर चल रही है लेकिन लेकिन धरातल पर ऐसा कुछ भी नहीं है। सरकार और प्रशासन की ओर से नंदीशाला को सहयोग प्राप्त नहीं हो रहा। नंदीशाला में जो व्यवस्थाएं चल रही हैं वे काफी हद तक समाज के सहयोग से चल रही हैं। भविष्य में नंदीशाला के संचालन के लिए समाज के साथ-साथ प्रशासनिक सहयोग की तत्काल आवश्यकता है। उन्होंने साफ किया कि अगर जल्द ही नंदीशाला को बड़ा शैड़, पक्का फर्श व आर्थिक मदद प्राप्त नहीं हुई तो इसका संचालन मुश्किल हो जाएगा। परिणामस्वरूप उन्हें या तो नंदी सड़कों पर या एसडीएम कार्यालय में छोडऩे पड़ेंगे। गौभक्तों का ज्ञापन लेकर एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा ने कहा कि वह नंदीशाला का दौरा कर चुके हैं। उन्होंने नगरपालिका को इस कार्य के लिए एस्टीमेट बनाने के लिए आदेश दे दिए हैं। अगर इस कार्य पर खर्च अधिक होगा तो उसका टेंडर करवाया जाएगा और अगर खर्च कम होगा तो उसे विभागीय स्तर पर करवाया जाएगा। उन्होंने गौभक्तों को आश्वासन दिया कि नंदीशाला के व्यवस्थाओं को जल्द ही सुधारा जाएगा।
Advertisement