जींद शहर में विभिन्न विकास कार्यो का उपायुक्त डा. मनोज कुमार ने किया निरीक्षण

129
Advertisement

मैडिकल कॉलेज बनने से जिला को ही नहीं बल्कि आसपास के लोगों को भी पहुंचेगा फायदा

एकलव्य स्टेडियम में अधिकारी जल्द से जल्द सिंथेटिक ट्रैक बिछवाना करें सुनिश्चित

खिलाडिय़ों को हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध करवाना है प्रशासन की प्राथमिकता: डीसी डॉ. मनोज कुमार

एस• के• मित्तल
जींद,   उपायुक्त मनोज कुमार ने मंगलवार को निर्माणाधीन मैडिकल कॉलेज का निरीक्षण किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि चुंकि यह जिला की सबसे बड़ी परियोजना है इसको समयबद्ध तरीके से पूरा करवाएं और इसमें प्रयोग होने वाली सामग्री की गुणवत्ता की समय-समय पर जांच करते रहें। उपायुक्त ने निमार्णधीन स्थलों पर जाने की गाईड लाईन की पालना करते हुए हेल्मट पहन कर मौका मुआयना किया। 24 एकड में बनने वाला मैडिकल कॉलेज जिला की अहम परियोजना है, इसलिए इस परियोजना को तय समय सीमा में पूरा करवाएं ताकि जिला वासियों को इसका जल्द से जल्द फायदा मिल सके।
यह परियोजना अगस्त 2023 तक पूरी होना सम्भावित है। लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता नवनीत ने उपायुक्त को बताया कि मेडिकल कॉलेज के पहले चरण में 12 बड़े ब्लॉक बनाए जाने हैं। इनमें 84173 वर्ग गज के भू-गृह में शिक्षण खंड, 28229 वर्गगज में शैक्षणिक खंड, ब्लाक अस्पताल, 269 वर्गगज में पुलिस स्टेशन, 100 वर्ग गज में कचरा प्रबंधन भवन, बिजली घर, 7382-7382 अलग-अलग वर्गगज में लडके व लड़कियों का हॉस्टल, नर्सिंग हॉस्टल, 6168 वर्गगज में जूनियर और सीनियर चिकित्सकों के लिए हॉस्टल, 382 वर्गगज में निदेशक आवास, 102 वर्गगज में सबस्टेशन, गेस्ट हाउस, 650 बेड का अस्पताल, पैथ लैब के लिए इमारत, ब्लड बैंक, ओपीडी भवन, रेडियोग्राफी ब्लॉक जैसे भवन शामिल हैं।
मेडिकल कॉलेज के लिए कम जगह में बेहतर तकनीक का प्रयोग करके बहुमंजिला भवन बनाए जा रहे है। कॉलेज में लडक़े और लड़कियों के लिए अलग-अलग हॉस्टल भवन बनाएं जाएगें। यह मैडिकल कॉलेज पूर्ण रूप से आधुनिक व तकनीकी युक्त बनाया जा रहा है। उपायुक्त इसके उपरांत एकलव्य स्टेडियम में पहुंचे और वहां पर खिलाडिय़ों को दी जाने वाली सुविधाओं और स्टेडियम का चारो तरफ से निरीक्षण किया। उन्होंने जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम अधिकारी कुमारी संतोष धीमान को निर्देश दिए कि वे खिलाडिय़ों को हर तरह की सुविधाएं प्रदान करें। खिलाडिय़ों को हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध करवाना प्रशासन की पहली प्राथमिकता है।
उन्होंने खेल विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे जल्द से जल्द इसके अन्दर सिंथेटिक ट्रैक भी बिछवाएं और स्टेडियम में चारों तरफ  लगी लोहे की बाउंडरी वॉल को दुरूस्त करवाएं ताकि कोई भी आवारा पशु स्टेडियम के अन्दर ना आ सके। उपायुक्त ने कहा कि स्टेडियम के अन्दर खाली पड़ी जगह पर हरी घास लगवाएं और अन्दर लॉन में सुबह-शाम पानी का छिडकाव करें और इसको और सुन्दर बनाया जाए। उन्होंने एकलव्य स्टेडियम के अन्दर बने स्वीमिंग पूल का निरीक्षण किया और अधिकारियों को जल्द से जल्द स्वीमिंग पूल को खिलाडिय़ों के लिए चालू करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने एकलव्य स्टेडियम के अन्दर लॉन टेनिस में नेट की व्यवस्था, पीने के स्वच्छ पानी, स्टोर की सही मेंटेनेंस, बारे भी निर्देश दिए। निरीक्षण दौरे के दौरान उपायुक्त अर्जुन स्टेडियम पहुंचे।
उन्होंने वहां पर स्टेडियम में लॉन, मल्टीपरपज हॉल एवं रैसलिंग हॉल का निरीक्षण किया और इन सब को सही तरीके से मेंटेन करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने अर्जुन स्टेडियम की बाल भवन रोड़ की दीवार को ठीक करवाने के निर्देश दिए और स्टेडियम के अन्दर गंदा पानी न आए इसके लिए नगर परिषद के अधिकारियों को भी कहा।

 

यह भी देखें:-

गौ माता ने बदल दी तकदीर… श्री गोरक्षनंद गौशाला के 26वें स्थापना दिवस पर लोक संपर्क विभाग की शानदार प्रस्तुति…

गौ माता ने बदल दी तकदीर… श्री गोरक्षनंद गौशाला के 26वें स्थापना दिवस पर लोक संपर्क विभाग की शानदार प्रस्तुति…

 

उन्होंने खेल विभाग के अधिकारियों को कहा कि वे स्टेडियम के अन्दर काफी संख्या में खड़ी खरपतवार को ट्रैक्टर चलवाकर साफ  करवाएं और खिलाडिय़ों के साथ मिलकर एक श्रम दान अभियान चलाएं और स्टेडियम को साफ-सुथरा रखें। उपायुक्त ने मल्टीपरपज हॉल का निरीक्षण किया और कहा कि इसके चारों तरफ  खिडकियों पर लोहे की जालियां लगवाओं और छत की भी मुरम्मत एवं पेंट का करवाओं ताकि बरसाती सीजन में इनमें से पानी टपकने की समस्या ना हो और हॉल के अन्दर कोई पक्षी भी ना आने पाए। उपायुक्त निरीक्षण के दौरान पुराना हांसी रोड़ पर नवनिर्मित रेलवे ओवर ब्रिज पर भी पहुंचे उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पुल पर दोनो साईड से क्रैश वॉल का कार्य जल्द पूरा करें ताकि कोई दुर्घटना ना हो।

दौरे के दौरान उन्होंने सफीदों रोड़ पर परशुराम चौंक के पास सडक़ की चौड़ाई को भी मापा और अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस सडक़ की चौड़ाई को और बढ़ाया जाए ताकि दोनों और से वाहनों की आवाजाही सुचारू रूप से हो सके और शहर के अन्दर जाम की स्थिति ना बने। उन्होंने रोड़ को दोनों और से 7-7 मीटर चौड़ा कर उसके बीच में से डिवाईडर बनवाने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए। इस निरीक्षण के दौरान उनके साथ नगरपरिषद, लोक निर्माण विभाग (भवन एवं सडकें) एवं जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग के अधिकारी एवं अन्य स बंधित अधिकारी उपस्थित थे।

 

 

YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement