गुरू नानक सेवा संघ ने शहीदी दिवस पर लगाया रक्तदान शिविर

130
Advertisement

स्कूली बच्चों व रक्तदाताओं को किया सम्मानित

एस• के• मित्तल
सफीदों, सामाजिक संस्था गुरु नानक सेवा संघ के तत्वाधान में शहीदी दिवस के अवसर पर बुधवार को नगर के ऐतिहासिक नागक्षेत्र सरोवर हॉल में विशाल रक्तदान शिविर व सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। शिविर की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष श्याम स्वामी ने की। समारोह में भक्ति योग आश्रम ट्रस्ट के संचालक डा. स्वामी शंकरानंद सरस्वती का सानिध्य प्राप्त हुआ। कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि अर्जुन अवॉर्डी एवं पद्मश्री चांदराम व विशिष्टातिथि के रूप में समाजसेवी नरेश सिंह बराड़, कार्यवाहक बीईओ दलबीर मलिक, पूर्व बीईओ डा. नरेश वर्मा व आचार्य पुरुषोत्तम कौशिक ने शिरकत की। कार्यक्रम का शुभारंभ शहीदों को पुष्पांजली अर्पित करके किया गया। कार्यक्रम में आई रेडक्रॉस की टीम ने करीब 100 रक्तदाताओं का रक्त संग्रहित किया। अतिथियों ने रक्तदाताओं को बैज लगाकर उनका हौसला बढ़ाया। वहीं रक्तदानियों को प्रशंसा पत्र व हैल्मेट देकर सम्मानित किया। अपने संबोधन में अर्जुन अवॉर्डी एवं पद्मश्री चांदराम ने कहा कि युवाओं को खेलों में बढ़-चढ़कर भाग लेना चाहिए। खेलों से मनुष्य का शारीरिक व मानसिक विकास होता है। उनके दौर में खिलाडिय़ों को किसी प्रकार की सुविधा उपलब्ध नहीं थी। उनके पास ना पैसा था, ना मैदान थे, ना कपड़े थे और ना बढिय़ा खुराक थी। वे केवल मेहनत व लग्र के बल पर इस मुकाम पर पहुंचे। आज के दौर में खेलों के अंदर पैसा, शौहरत व ग्लैमर सबकुछ है। इसलिए खिलाडिय़ों को इन सब सुविधाओं का लाभ उठाकर अपने खेलों में हाथ आजमाना चाहिए। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे खेलों के साथ-साथ रक्तदान के क्षेत्र में भी अपने कदम बढ़ाए। रक्तदान से बड़ा कोई महादान नहीं है। रक्तदान एक सच्ची समाज व देशसेवा है।
यह भी देखें:-

सफीदों शहर थाना में शहीदी दिवस मना कर पुलिस ने की बड़ी पहल… कहा… नशे से दूर रहकर देश की उन्नति में युवा करे योगदान… देखें लाइव…

सफीदों शहर थाना में शहीदी दिवस मना कर पुलिस ने की बड़ी पहल… कहा… नशे से दूर रहकर देश की उन्नति में युवा करे योगदान… देखें लाइव…

 

अपने आशीर्वचन में डा. शंकरानंद सरस्वती ने कहा कि आज का मनुष्य को प्रकृति से निरंतर दूर होता चला जा रहा है और उसका दुष्परिणाम यह है कि मनुष्य निरंतर बीमारियों की गिरफ्त में आ रहा है। आज की भागमभाग की जिदंगी में पैसे की अंधी दौड़ में लगा हुआ है और उसे अपने स्वास्थ्य के प्रति कोई ध्यान नहीं है। इन सब परिस्थितियों के मद्देनजर इंसान को प्रकृति और प्राकृतिक चिकित्सा की ओर लौटना होगा। प्राकृतिक चिकित्सा बेहद कारगर है। उन्होंने कहा कि समाजसेवा के क्षेत्र में गुरूनानक सेवा संघ के अध्यक्ष श्यामस्वामी बेहद अच्छा कार्य कर रहे है। उन कार्यों की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है। कार्यक्रम के समापन पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर एडवोकेट निर्मल सिंह, छत्रपाल भारद्वाज, संजय शर्मा, मंजीतपाल, रमेश भारद्वाज महिपाल राठी, बलराज सैनी, काजल शर्मा व परमजीत सिंह मौजूद थे।
YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement