किसान आगामी 18 मार्च तक करवाएं मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण – उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार

156
Advertisement

कहा – जिस किसान ने अभी तक अपनी फसलों का ब्यौरा पोर्टल पर दर्ज नहीं करवाया है उन्हें फसल खराबे का मुआवजा लेने में होगी परेशानी, तुंरत करवाएं अपना पंजीकरण

 

एस• के• मित्तल
जींद,    कृषि एवं कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने बुधवार को वीडियों कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से मेरी फसल- मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण सहित किसानों के हितों में चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में सभी जिलों के उपायुक्तों से बातचीत की। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने जींद के उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार से वीडियों कॉन्फेंसिंग के माध्यम से निर्देश दिए कि वे जिला में किसानों की फसलों का पंजीकरण मेरा फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अधिक से अधिक दर्ज करवाएं। उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार ने अतिरिक्त मुख्य सचिव को विश्वास दिलाया कि जिले में किसानों द्वारा मेरी फसल- मेरा ब्यौरा पोर्टल पर फसलों का पंजीकरण अधिक से अधिक करवाया जाएगा। इसके लिए कृषि विभाग से सम्बन्धित विभागों को निर्देश जारी किए गए है कि वे किसानों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करेंगे। उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिले के जिन गांवों में 50 प्रतिशत से कम पंजीकरण हुआ है, उन सभी गांवों में पंजीकरण हेतू लोगों को जागरूक किया जाए और नि: शुल्क पंजीकरण हेतू काउंटर लगाए जाएं। इस कार्य को कृषि विभाग के साथ मिलकर राजस्व विभाग, कृषि विपणन बोर्ड, पंचायत विभाग के अधिकारी पूरा करेंगे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे मेरी फसल- मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसानों का पंजीकरण अधिक से अधिक करवाना सुनिश्चित करें। कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने के लिए इस पोर्टल पर पंजीकरण करवाना सरकार द्वारा अनिवार्य कर दिया गया है। मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा कर किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के साथ-साथ अन्य योजनाओं  जैसे- मेरा पानी मेरी विरासत, भावान्तर भरपाई, फसल विविधीकरण आदि योजनाओं का लाभ लेना भी सुनिश्चित कर सकते हैं।
उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि जिन किसानों ने अभी तक मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपना पंजीकरण नहीं करवाया है वे किसान तुंरत पंजीकरण करवाना सुनिश्चित करें, बिना पंजीकरण के फसल खराबे का मुआवजा प्राप्त करने में किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अभी तक रबी फसलों का पंजीकरण करवाने से वंचित रहे किसानों को सरकार द्वारा फसलों के पंजीकरण के लिए आखिरी अवसर प्रदान किया गया है।
यह भी देखें:-

उड़ान ग्रुप द्वारा आयोजित होली मिलन कार्यक्रम में किन्नर समाज की महंत गंगा से खास बातचीत… देखिए लाइव…

उड़ान ग्रुप द्वारा आयोजित होली मिलन कार्यक्रम में किन्नर समाज की महंत गंगा से खास बातचीत… देखिए लाइव…

किसानों के हित को मद्देनजर रखते हुए मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल 18 मार्च 2022 तक दोबारा उपलब्ध होगा, जिस दौरान किसान अपनी फसलों का पंजीकरण करवा सकते है। उपायुक्त डॉ. मनोज कुमार  ने बताया कि किसानों द्वारा अपने कृषि उत्पादों को मंडी में बेचने तथा सरकार द्वारा क्रियान्वित की जा रही कृषि से संबंधित योजनाओं का लाभ उठाने के लिए रबी की फसलों का पंजीकरण मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर करवाना अनिवार्य है। इसके लिए किसान 18 मार्च तक पोर्टल पर अपनी फसलों का पंजीकरण अवश्य करवाये। फसलों के पंजीकरण के लिए परिवार पहचान पत्र अनिवार्य है। अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री सेवा 1800-180-2117 अथवा विभागीय वेबसाइट  https://fasal.haryana.gov.in के अलावा कृषि उपनिदेशक कार्यालय में सम्पर्क किया जा सकता है। इस अवसर पर कृषि विभाग के उपनिदेशक डॉ. सुरेन्द्र मलिक समेत अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

 

YouTube पर यह भी देखें:-

Advertisement