करनाल JE रिश्वत प्रकरण: आज अदालत में पेश कर आरोपी को लेगी पुलिस रिमांड पर, हो सकते है कई खुलासे

19
Quiz banner
Advertisement

 

हरियाणा स्टेट विजिलेंस की टीम ने करनाल हुडा के एस्टेट ऑफिसर (EO) दीपक घनघस को रिश्वत के आरोप में वीरवार को गिरफ्तार था। आज दोपहर को आरोपी दीपक घनघस को कोर्ट में पेश कर रिमांड हासिल किया जाएगा। रिमांड के दौरान आरोपी EO से आरोपी JE के माध्यम से ली जा चुकी पेमेंट के बारे में जानकारी हासिल की जाएगी। वहीं विजिलेंस की टीम द्वारा एस्टेट अधिकारी की गिरफ्तारी से विभागीय अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है, कई अधिकारियों पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही हैं। विजिलेंस टीम हर पहलू की गंभीरता के साथ जांच कर आरोपियों तक पहुंचने में लगी है।

केजरीवाल- मान पर कुलदीप का COMMENT: इधर उधर की बात कर गए-बात नहीं की पानी की, मेरे आदमपुर में आकर गए- बात नहीं की हरियाणे की

8 लाख EO के लिए थे

EO पर आरोप है कि JE के माध्यम से कम्पलीशन सर्टिफिकेट जारी करने के नाम पर मोटी रकम लेता था। हुडा EO पर आरोप है कि रिश्वत कांड में पकड़े गए हुडा JE प्रघुम्मन सिंह के घर से रिकवर हुए 20 लाख रुपए में से 8 लाख रुपए एस्टेट अधिकारी को देने थे। जांच में खुलासा हुआ कि आरोपी पहले ही कंप्लीशन सर्टिफिकेट जारी करने के नाम पर 5 लाख रुपए ले चुके थे, इन पैसों में भी 25 से 30 प्रतिशत राशि ईओ की होती थी। जांच अधिकारी ने बताया कि इस मामले में EO से पूछताछ की जाएगी ताकि सच्चाई सामने आ चुके।

7 अधिकारी-कर्मचारियों को भेजे नोटिस

स्टेट टीम द्वारा रिश्वत कांड मामले में 7 अधिकारियों को नोटिस भेजकर जांच के लिए बुलाया है, इनमें से करीब 2 कर्मचारी जांच में शामिल होकर ब्यान दर्ज करवाएं है। लेकिन ब्यान दर्ज करवाने वाले व अन्य अधिकारी-कर्मचारी अवकाश पर चले गए है। यही नहीं एक अधिकारी बीमार है, जो आईसीयू में भर्ती है। विजिलेंस अधिकारी की माने तो सभी आरोपित कर्मचारियों को जांच में शामिल किया जाएगा।

कबूतरबाजों के झांसे में न आएं, विदेश भेजने वाले अनाधिकृत ट्रैवल एजेंट व एजेंसियों से रहें सावधान : डीसी डॉ• मनोज कुमार

आर्किटेक्ट के माध्यम से भी वसूली

​​​​​​​मामले में खुलासा हुआ है कि EO JE के माध्यम से तो JE आर्किटेक्ट के माध्यम से लोगों को सर्टिफिकेट के नाम पर अवैध वसूली करते थे। प्रति ग्राहक से 30 से 35 हजार रुपए वसूले जाते थे। जब वसूली के रूप में मोटी रकम जमा हो जाती थी तो उसमें से करीब 25 प्रतिशत से अधिक राशि EO तक पहुंचा जाती थी। जो राशि गिरफ्तार किए गए JE के घर से बरामद हुई है, उसमें से 8 लाख रुपए की राशि EO को पहुंचानी थी। लेकिन रेड के दौरान पहले ही जेई को पकड़ लिया गया, जिसकी वजह से पेमेंट EO तक नहीं पहुंचाई जा सकी।

रिमांड के दौरान हो सकते है कई खुलासे

​​​​​​​विजिलेंस इंस्पेक्टर सचिन कुमार ने बताया कि आरोपी को आज अदालत में पेश किया जाएगा। विजिलेंस द्वारा आरोपी से गहनता से पूछताछ की जागए। उन्होंने बताया कि इस मामले में जो भी सामने आया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

 

खबरें और भी हैं…

.
कबूतरबाजों के झांसे में न आएं, विदेश भेजने वाले अनाधिकृत ट्रैवल एजेंट व एजेंसियों से रहें सावधान : डीसी डॉ• मनोज कुमार

.

Advertisement