करनाल DC लंपी वारयस को लेकर आज करेंगे मीटिंग: गौशाला संचालकों व पशुपालन विभाग के अधिकारी होगें शामिल, संक्रमण बचाव को लेकर होगी चर्चा

24
Quiz banner
Advertisement

 

हरियाणा के जिले करनाल में पशुओं में चल रही लम्पी स्किन डिजीज संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान की शनिवार को शुरुआत हो गई। इस समय लम्पी स्किन डिजीज का सबसे ज्यादा खतरा जिले भर की गौशालाओं में मौजूद गौवंशों को है। वहीं जिले में टीकाकरण अभियान भी युद्ध स्तर पर है। पशुपालन विभाग के सभी कर्मचारियों व अधिकारियों को छुट्टियां सरकार की तरफ से रद्द कर दी गई।

ईरान के तेहरान में फिर छाया करनाल का छोरा: चीनी ताइपे को हराकर भारतीय टीम ने कियासेमीफाइनल क्वालीफाई, 2010 बाद टीम ने किया क्वालीफाई

आज 11 बजें डीसी लेंगे मीटिंग

गौशालाओं में लम्पी स्किन डिजीज की बीमारी न फैले इस के लिए जिला के उपायुक्त अनीश यादव जिले भर के गौशालाओं के संचालकों व विभाग के अधिकारियों के साथ मीटिंग करेगें। इस मीटिंग में लम्पी वायरस से पशुओं को बचाने के लिए कई अहम निर्णय भी लिए जाएगें।

जानकारी देते उपनिदेशक धर्मेंद्र ।

जानकारी देते उपनिदेशक धर्मेंद्र ।

डोज को लेकर होगी चर्चा

​​​​​​​पशुपालन विभाग के उपनिदेशक धर्मेंद्र ने बताया कि आज जिले में लगभग सभी डोज स्वस्थ पशुओं को लगा दी जाएगी। जिले में और कितनी डोज आनी है। कितने पशुओं को और डोज दी जाएगी। इसको लेकर भी मीटिंग में चर्चा की जाएगी।

पशुओं के संक्रमण का आंकड़ा पहुंचा 2000 पर

वहीं शनिवार देर शाम को विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अब जिले में लम्पी स्किन डिजीज के मामले 2 हजार पशुओं तक पहुंच गया है। विभाग से मिले आंकड़ों की माने अब तक करनाल जिले में 8 ही पशुओं की मौत लम्पी स्किन डिजीज से हुई है।

मेघालय के DGP बनना चाहते थे वेटनरी सर्जन: क्विज कंपीटिशन में भाग लिया तो पता चला DC-SP आईएएस की परीक्षा पास करके बनते हैं

लक्षण दिखने पर तुरंत कराएं इलाज

​​​​​​​उप निदेशक डॉ. धर्मेंद्र ने बताया कि लम्पी स्किन डिजीज एक वायरल बीमारी है। यह बीमारी मुख्यतः गाय और भैंस में पाईं गई है। उन्होंने पशुपालकों से अनुरोध किया कि वे इस बीमारी से न घबराएं और बीमार पशु का तुरंत इलाज करवाएं। डॉ. रूपिंद्र मोबाइल नंबर 9466449090, एसडीओ इंद्री डॉ. नरेंद्र मोबाइल नंबर 7027600022 एसडीओ असंध डॉ. बलजीत के मोबाइल नंबर 9896170444 पर संपर्क कर सकते हैं।

 

खबरें और भी हैं…

.खेल निदेशालय ने नेशनल ट्रायल को लेकर किए निर्देश जारी: अब दोबारा ट्रायल देने के लिए विभाग से लेनी होगी प्रमिशन, नहीं तो रहना पड़ेगा विभाग के लाभो से वंचित

.

Advertisement