आढ़तियों ने मुख्यमंत्री के नाम मार्किट कमेटी सचिव को सौंपा ज्ञापन

83
Advertisement

 

आढ़तियों ने सरकार के खिलाफ की जमकर नारेबाजी

 

एस• के• मित्तल 

सफीदों, सफीदों मंडी के आढ़तियों ने फसलों की खरीद फिरोख्त ई-नेम के जरिए किए जाने के फरमान के विरोध में सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। अनिश्चितकालीन हड़ताल के मद्देनजर आढ़ती, मुनीम व मजदूर मंगलवार सुबह नई अनाज मंडी के शैड के नीचे इक_ा हुए और वहां से नारेबाजी करते हुए सीधे मार्कि ट कमेटी कार्यालय पहुंचे।

हिसार के चमारखेड़ा में CM फ्लाइंग की रेड: स्कूल के मनरेगा रिकार्ड में 146 मजदूरों की लगी मिली हाजिरी; नहीं मिला कोई

आढ़तियों ने कच्चा आढ़ती संघ के प्रधान एडवोकेट कृष्ण गोपाल मित्तल की अगुवाई में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नाम एक ज्ञापन मार्किट कमेटी के उप सचिव अनिल कुमार शर्मा को सौंपा। ज्ञापन सौंपकर आढ़तियों ने साफ किया कि अगर सरकार ने समय रहते उनकी मांगों को नहीं माना और जारी किया गया फरमान वापिस नहीं लिया तो आंदोलन ओर अधिक तेज किया जाएगा। जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी। आढ़तियों को कहना था कि ई-नेम में फसलों की खरीद-फिरोख्त कंप्यूटर के द्वारा की जाएगी। मंडी के अधिकतर आढ़ती इस कम्प्यूटर प्रणाली के जानकार नहीं है। वह किसान का माल बिकवाएगा या इस ऑनलाईन के चक्कर में पड़ा रहेगा।

Apple iPhone 14 मरम्मत के लिए सबसे आसान स्मार्टफोन में से एक है, टियरडाउन वीडियो दिखाता है

ई-नेम के जरिए फसल लेना व बेचना दोनों ही एक आफत के समान है तथा एक बड़ी जटिल प्रक्रिया है। इस प्रणाली के द्वारा खरीदार को फसल का भुगतान माल उठाने से पहले सीधे किसान को करना होगा। इससे किसानों का तो नुकसान होगा ही, साथ ही हरियाणा की मंडियों से आढ़ती भी खत्म हो जाएंगे। सरकार द्वारा जारी किए गए नए आदेश किसी भी रूप में व्यावहारिक नहीं हैं।

रेवाड़ी में रोडवेज कंडेक्टर को पीटा: बस के आगे पिकअप लगाकर सवारियां भरी; फोटो खिंचने पर अंजाम दी वारदात

मंडी प्रधान एडवोकेट कृष्ण गोपाल मित्तल ने बताया कि उनकी यह हड़ताल ई-नेम पोर्टल को खत्म करवाने, मार्किट फीस को 4 फीसदी से घटाकर दोबारा एक प्रतिशत करवाने तथा कमीशन पूरा अढाई प्रतिशत देने को लेकर है। जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जाएंगी तक तक उनकी हड़ताल निरंतर जारी रहेगी।

Advertisement