अवैध कॉलोनियों पर DTP की कार्रवाई: जनप्रतिनिधियों का आरोप, पीक एंड चूज कर रहा  DTP , बोले पूंजीपतियों पर रहमत क्यों

34
Quiz banner
Advertisement

DTP के सामने कार्रवाई पर सवाल उठाते पार्षद।

हरियाणा के जिले करनाल में सोमवार को DTP द्वारा अवैध कॉलोनियों व अवैध निमार्ण पर की गई कार्रवाई पर अब सवाल उठने शुरू हो गए है। जनप्रतिनिधियों ने उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि उनके द्वारा गरीब लोगों के ऊपर कार्रवाई की जा रही है। जबकि पूंजीपतियों पर पूरी रहमत किए है।

गांव दुसानी में वारदात: चोरों से बचाने के लिए गेहूं की टंकी में छिपाए थे लाखों के गहने, शातिर चोर वहां से भी ले गए

बता दे कि अवैध कॉलोनियों के मुद्दे को दैनिक भास्कर डिजिटल पिछले चार दिनों प्रमुखता से उठा रहा है। दैनिक भास्कर ने उनको यह भी याद दिलाया कि जब उन्होंने करनाल में ज्वाइन किया था तो उन्होंने कहा था कि वह करनाल में ऐसा कर देगें कि कॉलोनईजर उनका नाम सुनकर भाग जाएगें। इसी बात का ध्यान रखते हुए सोमवार को DTP द्वारा शहर भर की दर्जनों कॉलोनियों में ताबड़तोड़ कार्रवाई की।

घरौंडा में अवैध निमार्ण पर कार्रवाई करता प्रशासन।

घरौंडा में अवैध निमार्ण पर कार्रवाई करता प्रशासन।

कार्रवाई पर उठ रहे सवाल

सोमवार को उनके द्वारा की गई कार्रवाई पर यूथ फॉर चेंज के अध्यक्ष वीरेंद्र राठौर ने सवाल उठाते हुए कहा कि करनाल में बजीदा रोड़ पर दो अवैध कॉलोनियों काटी जा रही थी। जिसमें एक कॉलोनी में वकील के पर जानलेवा हमला भी हुआ था। इसके अलावा कुछ ही दूरी पर दूसरी अवैध कॉलोनी भी कट रही थी जहां पर प्लाट काटे जा रहे थे। सोमवार को इन दोनों कॉलोनियों में खानापूर्ति के लिए DTP गए जरूर लेकिन कार्रवाई के नाम पर उनको चेतावनी देकर और एक दो घरों को सील करके वहां से वापिस आए गए। जबकि होना ये चाहिए था कि दोनों कॉलोनियों में जितना भी निमार्ण कार्य उन्होंने करवाया है उसपर बुलडोजर चलाया जाता और दोनों खिलाफ मामला दर्ज करवाया जाता।

अवैध कॉलोनियों पर DTP की कार्रवाई: जनप्रतिनिधियों का आरोप, पीक एंड चूज कर रहा  DTP , बोले पूंजीपतियों पर रहमत क्यों

घरौंडा में पार्षदों ने उठाए सवाल

वहीं घरौंडा के नगर पार्षदों ने प्रशासन पर दोगली कार्रवाई के आरोप लगा रहे है। सोमवार शाम को जिला प्रशासन ने मिनी बाईपास पर निर्मित एक अवैध प्रॉपर्टी पर कार्रवाई की, लेकिन पार्षदों द्वारा उठाया गया ARB वाटर पार्क पर अवैध दुकानों के निर्माण के मुद्दे पर प्रशासन आज तक संज्ञान नहीं ले पाया है। लिहाजा, नगर पार्षद ही प्रशासन की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े कर रहे है पार्षदों ने प्रशासनिक अधिकारियों पर ही दोगली नीति अपनाने के आरोप लगा दिए।

प्रशासन द्वारा ध्वस्त किए गए अवैध निमार्ण का दृश्य।

प्रशासन द्वारा ध्वस्त किए गए अवैध निमार्ण का दृश्य।

पूंजीपतियों पर एक्शन क्यों नहीं

पार्षद अमन जोशी ने प्रशासन के कार्य करने के तरीके पर प्रश्न चिन्ह खड़ा किया। वार्ड नंबर नौ से पार्षद अमन जोशी ने आरोप लगाया है कि कोई गरीब व्यक्ति निर्माण करता है तो नगरपालिका एक झटके में संबंधित व्यक्ति को नोटिस थमा देती है, लेकिन एक पूंजीपति व्यक्ति नियमों को ताक पर रखकर बड़े-बड़े शोरूम और दुकानों का निर्माण कर लेता है लेकिन प्रशासन उस पर कोई एक्शन नहीं लेता। अमन जोशी की माने तो ARB वाटर पार्क के बाहर अवैध तरीके से दुकानों को बनाया गया है।

Microsoft पुष्टि करता है कि एज ब्राउज़र जनवरी 2023 से विंडोज 7 और 8.1 पीसी पर काम नहीं करेगा

ना तो वहां पर NOC है, ना ही कोई CLU है। पार्क के बाहर तीन शोरूम बन चुके है और एक शोरूम बन रहा है। जिस तरह से प्रशासन अन्य स्थानों पर कार्रवाई कर रहा है, उसी तरह से इन अवैध शो रूम को भी ध्वस्त किया जाए। अधिकारी सभी को एक नजर से देखें और समान रूप से कार्रवाई अमल में लाई जाए, इसको लेकर वे DTP से मिलें है और ABR वाटर पार्क के बाहर बनी अवैध दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई।

अवैध निमार्ण पर चलता पीला पंजा।

अवैध निमार्ण पर चलता पीला पंजा।

कई बार उठाया गया मुद्दा

पार्षद प्रतिनिधि कपिल राणा ने नगरपालिका प्रशासन पर आरोप लगाया है कि नगरपालिका पार्षदों की भी नहीं सुन रही है। ABR वाटर पार्क के बाहर अवैध तरीके से दुकाने बनने का मुद्दा नगर पालिका अधिकारियों के सामने उठाया गया है, लेकिन नगरपालिका प्रशासन कोई भी एक्शन नहीं ले रहा है। बीती 28 अक्तूबर को नगरपालिका ने ABR वाटर पार्क के मालिकों को नोटिस जारी किया था लेकिन उसके बाद ना तो कोई जवाब आया और ना ही नगरपालिका ने कोई जवाब मांगा। ABR वाटर पार्क के बाहर दुकानों का निर्माण हो चुका है और निर्माण चल भी रहा है लेकिन कोई कार्रवाई ही नहीं हो रही।

NGT के दिशा निर्देशों अनुसार ADC की अध्यक्षता में गठित होगी कमेटी

ABR वाटर पार्क में अवैध निर्माण को लेकर पार्षदों द्वारा की गई शिकायत के सवाल पर DTP आरएस भाठ ने कहा कि हाईवे के ऊपर NGT की गाइडलाइंस आई है। NGT के दिशानिर्देशों के अनुसार ADC की अध्यक्षता में एक कमेटी बन रही है और जल्द ही हाइवे के अवैध निर्माणों पर जेसीबी चलती नजर आएगी।

 

खबरें और भी हैं…

.
Microsoft पुष्टि करता है कि एज ब्राउज़र जनवरी 2023 से विंडोज 7 और 8.1 पीसी पर काम नहीं करेगा

.

Advertisement